Thoughts



मायके की महक- बेटियां

बेटी जब शादी के मंडप से ससुराल जाती है तब पराई नहीं लगती मगर जब वह मायके आकर हाथ मुंह धोने के बाद सामने टंगे टाविल के बजाय अपने बैग से छोटे से रुमाल से मुंह पौंछती है , तब वह पराई लगती है.
जब वह रसोई के दरवाजे पर अपरिचित सी खड़ी हो जाती है , तब वह पराई लगती है.
जब वह पानी के गिलास के लिए इधर उधर आँखें घुमाती है , तब वह पराई लगती है.
जब वह पूछती है वाशिंग मशीन चलाऊँ क्या तब वह पराई लगती है.
जब टेबल पर खाना लगने के बाद भी बर्तन खोल कर नहीं देखती तब वह पराई लगती है.
जब पैसे गिनते समय अपनी नजरें चुराती है तब वह पराई लगती है.
जब बात बात पर अनावश्यक ठहाके लगाकर खुश होने का नाटक करती है तब वह पराई लगती है.....
और लौटते समय 'अब कब आएगी' के जवाब में 'देखो कब आना होता है' यह जवाब देती है, तब हमेशा के लिए पराई हो गई ऐसे लगती है.
लेकिन गाड़ी में बैठने के बाद जब वह चुपके से 
अपनी आखें छुपा के सुखाने की कोशिश करती । तो वह परायापन एक झटके में बह जाता तब वो पराई सी लगती
?
नहीं चाहिए हिस्सा भइया मेरा मायका सजाए रखना ,
कुछ ना देना मुझको 
बस प्यार बनाए रखना ,
पापा के इस घर में 
मेरी याद बसाए रखना ,
बच्चों के मन में मेरामान बनाए रखना ,
बेटी हूँ सदा इस घर की
ये सम्मान सजाये रखना।।
.....
बेटी से माँ का सफ़र (बहुत खूबसूरत पंक्तिया , 
सभी महिलाओ को समर्पित)
बेटी से माँ का सफ़र .
बेफिक्री से फिकर का सफ़र .
रोने से चुप कराने का सफ़र उत्सुकत्ता से संयम का सफ़र .
पहले जो आँचल में छुप जाया करती थी.
आज किसी को आँचल में छुपा लेती हैं|
पहले जो ऊँगली पे गरम लगने से घर को सर पे उठाया करती थी ।
आज हाथ जल जाने पर भी खाना बनाया करती हैं|
पहले जो छोटी छोटी बातों पे रो जाया करती थी.
आज बो बड़ी बड़ी बातों को मन में छुपाया करती हैं|
पहले भाई,,दोस्तों से लड़ लिया करती थी.
आज उनसे बात करने को भी तरस जाती हैं|
माँ,माँ कह कर पूरे घर में उछला करती थी.
आज माँ सुन के धीरे से मुस्कुराया करती हैं|
10 बजे उठने पर भी जल्दी उठ जाना होता था.
आज 7 बजे उठने पर भी लेट हो जाया करती हैं|
खुद के शौक पूरे करते करते ही साल गुजर जाता था.
आज खुद के लिए एक कपडा लेने को तरस जाया करती है|
पूरे दिन फ्री होके भी बिजी बताया करती थी.
अब पूरे दिन काम करके भी काम चोर कहलाया करती हैं|
एक एग्जाम के लिए पूरे साल पढ़ा करती थी.
अब हर दिन बिना तैयारी के एग्जाम दिया करती हैं|
ना जाने कब किसी की बेटी किसी की माँ बन गई.
कब बेटी से माँ के सफ़र में तब्दील हो गई .?
बेटी है तो कल है|

बहुत प्यारी होती है बेटियाँ ,
न जाने लोग बोझ क्यों  समझते हैं बेटियाँ ll
आखिर मायके की महक ही तो हैं बेटियां
Read More

Coaching is not what you think!

When the word “Coaching” comes into my mind, one name always pops up, the cricket legend Sachin Tendulkar and his coach Mr. Ramakant Achrekar who gave him cricket. This example also helps us break the myths that coaching is needed when there are performance issues or people who are underperforming need the most.

If Sachin Tendulkar needs a coach then we all need a coach in our life to get going. The corporate world is also realizing the importance of coaching. Organizations are focusing on coaching as one of the key parts of its cultivation culture. I am expected to coach people and I also have a coach, to get going. We do have mentors, trainers, consultants but in this article, I am restricting only to coaching.

As a part of our cultivation programs, we also go thru workshops and training to understand what effective coaching means to the corporate world.

Is it about advising people?
Is it about sharing our own experience and let them follow?
Is it about providing solutions to the problems of a coachee?
is it the same as what a sports coach does?

Recently attended a coaching skills workshop as part of our talent growth programs, we discussed a number of such questions in the workshop. Here are my key takeaways from the workshop.

1. Word “Coaching” does not come from Sports - 
Yes, it may surprise you, but coaching in the corporate world is not the same as coaching in sports. The word “coach” comes from a coach in a train, that lets you move and takes you to the destination that you have defined. So as a coach, we are not supposed to define where the coachee should go, but rather we focus on letting them go in the direction where they want to go.

2. Coaching is a “no advice” zone
Yes, coaching is purely a no advice zone, as a human this could be a difficult part, as we tend to advise people based on our rich experience, especially when someone come across a similar situation that we have already gone thru. We try to provide solutions to the problems and issues that the coachee comes with. But this is not coaching, it may come under mentoring, training, or consulting side of the cultivation based on what we do.
As a coach, we don’t need to have all the answers and let go our habit of providing fix based on our own assumptions.
One size doesn’t fit all, or our glasses may not fix the eyesight of others just because they have fixed our eyesight.

3.Get insights
It is important to first get insights of the ask, before really getting into the actions. It requires building a good rapport with the coachee so that they open up, the coach has to listen actively and emphatically. Some time most undervalued tool “paraphrasing” helps a lot. It boosts the confidence of the coachee that they are doing fine, and they can do it. Body language does play a great role here.

Remember, or believe in that the coachee already has all resources and skills to handle the situation. We just need to ask the powerful questions that the coachee get provoked to find more ways to solve their problems on their own. Let them take time to understand the questions well and come up with answers.

4. Coaching framework and tools
There are some good coaching frameworks such as “GROW” — Goal, Reality, Options, and Will (or Way forward). It gives more structure to the conversations and may make the coaching more effective.
We can also use a spider chart, scale (0–10) to give weightage to different options or facts.

5. Roleplay for GROW model
All the situations can not be solved by Coaching
Remember we can not solve all the situations with our coaching skills, we may need to switch between the other side of mentoring or training, managerial conversation based on the situation. For example, you may not want to discuss the promotion or salary review concerns with your coaching skills. So, It is important to set the right expectation before the conversations from both sides.

Conclusion
In the conclusion, I would like to say that everyone needs a good coach that can provoke us to find ways, and choose the optimal way out. A coach also needs to practice effective coaching, there are some good tools that can help and structure the coaching conversations. It is in the best interest of the coachee and coach to set the right expectation for the conversations.
Read More

Roosters coop

Hello friends, hope you all are doing your best to move forward in your lives. Recently I saw the movie “ The White Tiger”(available on Netflix). An adaptation of Aravind Adiga's 2008 booker prize-winning novel of the same name, the story is about Balram Halwai, who comes from a poor Indian village and uses his wit and cunning to escape from poverty

The Rooster Coop is Balram’s metaphor for describing the oppression of India’s poor. Roosters(Chicken) in a coop at the market watch one another slaughtered one by one, but are unable or unwilling to rebel and break out of the coop. Similarly, India’s poor people see one another crushed by the wealthy and powerful, defeated by the staggering inequality of Indian society, but are unable to escape the same fate. In fact, he argues that the poor actively stop each other from escaping, either willfully by cutting each other down, or less purposely but just as powerfully, through a culture that makes them expect such abuse and servitude. The Rooster Coop Balram describes is one that’s “guarded from the inside.”

Balram believes that the traditional Indian family unit keeps the Rooster Coop of social inequality alive. If a servant attempts to escape or disobeys his employer, the superior’s family will punish the servant and which will affect his bread and butter of the whole family. In this way, familial loyalty and love become weaknesses in the context of rooster coop logic. In a country where the rules are stacked so overwhelmingly against the poor, Balram comes to believe that to create a better life and “break out of the Rooster Coop,” one must be willing to sacrifice everything, including attachment to traditional morals and to one’s family.

I want to relate the concept of Rooster’s coop to all of us, especially the aspirants. Let me break down the concept into two fields. Firstly, All of us are bounded by the barriers in our lives (coop), we see in front of us that people are unhappy when they are doing the work they are not enjoying, yet we all are moving in the same directions as others are and this is a never-ending process. There is an internal fear among us all. Doing something different and going against the flow is a big nightmare for us and we are afraid that it will lead to a colossal failure in future.

Secondly, as described in the book, Balram comes to an economically weaker section of society, and yet he excels through his smart and cunning ways to be at the top. Like all others, he could end up like the others if he had fear in himself about the failure.  

The question is can we break free from this rooster coop. Yes, we can but we need bold steps, we need that change, not from outside,  but before that in our own mindset.

We need to stand up in our own lives and try to remove this barrier on our daily basis, we need to stand up and become a White tiger as described by Arvind Adiga in his book.

Try to be different and follow your passion, work hard, and get out of the cage inside of your mind.
Read More

२०२० में इच्छा शक्ति बढ़ाने के कुछ अनुभव

वर्ष 2020 परिवर्तन का वर्ष था, यह कुछ लोगों के लिए दर्दनाक हो सकता है, लेकिन साथ ही इसने हमें जीवन में सबक भी सिखाया है। मैंने इसके बारे में पहले भी लिखा है कि हमें इसे स्वीकार करना होगा, और यह साल याद किया जाएगा हमारे पूरे जीवन में और उसके बाद भी, चाहे हम कुछ भी करें, पर इसका प्रभाव पड़ेगा। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम वर्तमान को पूरी तरह से जीएं। यहाँ पढ़े -

परिवर्तन या बदलाव ही एकमात्र स्थिर है, इसे हम जितना जल्दी स्वीकार करते हैं, उतना ही जल्दी हम भविष्य के लिए तैयार होते हैं - २०२० - बदलाव का वर्ष

मैं इस वर्ष को फ्रैंक चनिंग हैडॉक द्वारा लिखित किताब “Power of Will” पढ़कर पूरा कर रहा हूँ । लेखक सुदृढ़ इच्छा शक्ति की आवशयकता पर जोर देता है;

दृढ़ इच्छा शक्ति ही शरीर का स्वामी है। यदि हम अपने कार्यों को मजबूत और सही इच्छाशक्ति से निर्देशित करते हैं तो हम बहुत कुछ प्राप्त कर सकते हैं।

लेखक स्मृति, कल्पना, धारणा और आत्म-नियंत्रण से इच्छाशक्ति का प्रशिक्षण करने की बात करता है। पुस्तक में कुछ अभ्यासों का उल्लेख है जो इच्छाशक्ति को प्रशिक्षित करने में मदद कर सकते हैं। मैं इस किताब को वर्ष 2020 के कुछ अनुभवों से संबंधित हो सकता हूं, जहां मेरी इच्छाशक्ति ने एक बड़ी भूमिका निभाई है, और अनजाने में मैं अपनी इच्छाशक्ति को टिप्पणियों, कल्पनाओं, कार्यों, तर्क, शारीरिक इंद्रियों और कार्यों से प्रशिक्षित कर रहा था। इस लेख में, मैं उन अनुभवों को लिखता हूँ और 2021 में, मैं सचेत रूप से अपनी इच्छाशक्ति प्रशिक्षण पर ध्यान केंद्रित करूंगा। मेरा मानना ​​है कि हम सभी के पास ऐसे अनुभव हैं, उन्हें सूचीबद्ध करें, और इच्छाशक्ति का विकास करें। इच्छाशक्ति अच्छी हो तो हम जितना सोचते हैं उससे कहीं अधिक प्राप्त कर सकते हैं, और बिना इच्छाशक्ति के हम सरल से सरल काम भी नहीं कर पाते।

Read more here - https://thinkuldeep.com/hi/post/will-cultivation-2020/
Read More

The Positive Side of Boredom

The most frequent statement that is taken in 24 hours a day by  individuals is “feeling/ getting bored”. According to science it is proved that it is good to get bored. According to the study, it is found that when  the body  is goes in autopilot (unconsciousness mood), our brain get busy in forming neural connections which helps to create new ideas and also  to assist in solving  complex  problems. Boredom makes person more effective and creative.  
Manoush Zomorodi the famous author in her  book Bored and Brilliant emphasized that boredom leads to  brilliant ideas.  The boredom is not a curse; it is a blessings.
Read More

Dilli Chalo

A famous slogan,  “Dilli Chalo”,  by Netaji Subhas Chandra Bose comes to my mind today. I read this slogan in my early childhood schooldays. But never  thought that In the year 2020  farmers will have to  follow the path of Netaji to fight for  their rights.  India has  always been  known as an agricultural economy.  Farmers are the  backbone of our nation. “Jai Jawan, Jai Kisan“ is not only a  slogan, but it is an integral part of our nation. In  the election season “farmers’ benefits” always become the integral part of political campaigns, but once elections are  over, these become irrelevant. Recently the  Central Government passed a bizarre law for farmers with the avowed object to benefit them, but  unfortunately the enacted law is  for their detriment.  Farmers are against this law. They want its rollback. So in the current days “Jai Jawan, Jai Kisan” slogan has become  meaningless. The farmers have no choice except to follow the words of Neta Subhas Chandra Bose.  “Dilli Chalo”  (March to Delhi.)
Read More

आत्मबल

जो चीज ऊर्जा लाती हैं कहे तो पॉजिटिव ऊर्जा वही चीज ज़ब निगेटिव ऊर्जा लाती हैं तो प्रलय जैसा मंजर बन जाता हैं. पहाड़ / जंगल जो हमें बारहमास  सब कुछ देते हैं जैसे जीवनदायिनी ऑक्सीजन, अनमोल जड़ी बूटी, बहुमूल्य लकड़ी, पशुओ के लिये चारा, अवसादग्रस्त लोगो के लिये हरितमय वातावरण, निर्मल पीने का पानी इत्यादि. लेकिन ज़ब यही पहाड़ / जंगल मानसून  मे पानी से भर जाते हैं तो भयावह भूस्खलन, बाढ़, बादल फटना आदि जैसे नाशक कार्य विधियां लाते हैं. मतलब समय के साथ मानव / संसाधन /ऋतू  आदि के क्रियाक्लाप परिवर्तित होते हैं जिसके परिणति मे सब कुछ बदल सा जाता है. तभी तो समय को बलवान बोला गया है. 
क्योकि सबकुछ परिवर्तनशील हैं ये देह, दिमाग़, देशज, हवा,  पानी.... कोई स्थिर नहीं हैं.... नाही होना भी चाहिए.. सिर्फ आत्मा या मन को छोड़कर..... 
अभी भुवन के सभी देश बाढ़ से ग्रस्त हैं चाहे वो अपना देश हो या परदेश हो... स्थिति कठिन... कितने गांव के गांव उजड़ गए... आसाम हो या बिहार, गुजरात हो या उत्तराखंड.... नेपाल हो या इटली,, चीन हो या अमेरिका.. सब जलमग्न... कितने लोग तो इसमें बह गए... कितने ढाँचा टूट गए.... केवल हानि ही हानि.... 

बहुतायत इंसान तो अब चींटी की तरह जिंदगी जी रहा हैं... पता नहीं कौन सी चीज उसको कब मसल जाये..... 

इसमें एक ही चीज इंसान को खुद को मजबूत करती हैं जो हैं उसका आत्मबल.... कुछ भी हो जाये, अंतिम श्वास तक आशा और निरंतर कुछ अच्छा करने की इच्छा को नहीं त्यांगेगे.
Read More

Uncovering the human potential

Covid19 has challenged the way work,  and here I have penned down our shift toward new ways of working. Covid19 has impacted not just the way we work, but also our lives. All-day, we keep hearing how it is hitting hard on humanity and it has brought so much negativity around us.

Enough of negativity, let’s uncover human potential to cop with it. In this article, I will cover how the ways of our regular life are shifting, and uncovering new human potentials to try out new things and performing our chores own our own. This shift is important for us, not just to fulfill the need, but also to keep our mind busy, active, and be positive toward life. The kind of human mind shift I am talking about here will also impact various related businesses, and they need to think thru again to survive.

Read my article here, the change you are looking can start from your home, it covers how we can uncover potential which we never knew we can do ourselves.     - 

https://thinkuldeep.github.io/post/uncovering-the-human-potential/ 

So always trying, always improving.

"We can always do much more than what we think" - Kuldeep
Read More

कठिन परिश्रम या प्रतिभा

सफलता के लिए प्रतिभा का होना आवश्यक है या इंसान कठिन परिश्रम करके सफल हो सकता है? यह प्रश्न मेरे दिमाग में अक्सर घूमता रहता है, और इसका जवाब  मिल नहीं पाता।मनोविज्ञान प्रतिभा पर अधिक जोर देता है लेकिन परिश्रम ने अपनी महत्ता खुद साबित की है। 
कुल्हाड़ी लकड़ी को काटती है यह उसकी प्रतिभा है या परिश्रम,  रस्सी  पत्थर को काट देती है यह उसकी प्रतिभा है या परिश्रम। क्या प्रतिभा ही सफलता  की एक मात्र कुंजी है,  या असफलता का एक  मात्र बहाना  है।  कई बार अखबारों में यह पढा है कि एक बच्चा जो सातवीं क्लास में फेल हो गया था वह बड़ा होकर एक आईएएस अधिकारी बन गया तो क्या उस बच्चे में प्रतिभा की कमी थी? इसलिए वह सातवीं क्लास में फेल हुआ था या  उस बच्चे ने परिश्रम बहुत किया है इसलिए वह आईएएस अधिकारी बन गया। , या यूँ कहे  बच्चे की मेहनत मे कमी थी इसलिए वह सातवीं क्लास में फेल हुआ या वह बच्चा बहुत प्रतिभावान था इसलिए वह आईएएस अधिकारी बन गया।  यह एक अनोखा खेल है जिसमें जो सफल होता है वह प्रतिभावान कहलाता है और जो असफल होता है वह ना लायक, असमर्थ और काबिलियत रहित कहलाता है। लेकिन यह सत्य है कि सफल होने के लिए परिश्रम करना उतना ही आवश्यक है जितना कि प्रतिभा का होना। 
दुनिया को देखने से यह महसूस होता है कि प्रतिभा केवल अपवाद के रूप में ही मिलती है जो कि कम परिश्रम करने पर भी आपको सफलता दिलवा दे।  पर ज्यादातर लोगों मैं उतनी अधिक प्रतिभा  होने पर भी  मेहनत से सफलता अवश्य मिल जाती है।  लेकिन ऐसा नहीं हो सकता की लगातार  मेहनत करने पर भी आपको सफलता नहीं मिले।  प्रतिभा का बहाना छोड़कर आज से ही कठिन मेहनत करना शुरू कर दीजिए आपको सफलता अवश्य मिलेगी।
Read More

जिन्दगी के नियम

कभी कभी जीवन मे ऐसी परिस्थितियाँ आती हैं,
कि इन्सान सोचने पे विवश हो जाता है, कि क्या करे क्या नही, मनुष्य कितना मजबूर हो जाता है खुद के बनाए हुए "जिन्दगी के नियमों "से ही। 
निकलना भी चाहे तो वह जिन्दगी की इन उलझी लडियो से निकल नहीं पाता। रिश्ते और नातों की इस अनसुलझी लड़ मे न  जाने कितने लोग अपनी खुशियों की बलि दे जाते हैं। जिंदगी उनके लिए बोझ बन जाती है।  रंगीन दुनिया दिखने में तो चकाचौंध सी दिखती है लेकिन न जाने कितनी विस्फोटक लड़ियो  को अपने अंदर समेटे रखती है। अगर यह लड़ियां सुलझने लगे तो न जाने कितने लोगों का जीवन खत्म हो जाएगा। 
 अजीब विडंबना है कि मनुष्य जन्म तो स्वतंत्र लेता है, अबोध जीवन में कितना खिलखिलाता  है, बेफ़िक्र सा उस उम्र में यही सोचता है कि जिंदगी कितनी खूबसूरत है। क्योंकि ना तो वह उस वक्त रिश्ते नातों का महत्व जानता है ना ही दुनियादारी का मतलब। दुख, वेदना जैसी कोई तकलीफ उसे छू ही नहीं पाती। उसे केवल सुखमय सफर - ए - जिंदगी लगता है।  निकलता है जब वह अल्लड़पन से बाहर तो रिश्तो की अनूठी परंपरा से बधंने लगता है और यहीं से सुख-दुख की कहानी जिंदगी भर उसे ना सोने देती है ना जीने देती है। 
रिश्ते - नाते दुनियादारी ही अगर जिंदगी के बोझ के कारण हैं तो क्यों नहीं मनुष्य को बिना रिश्तो के रहने की तालीम दी जाए। जैसे जन्म से बचपन तक का सफर था उसका। क्यों ना उसे बिना मतलब के रिश्तों से दूर रखा जाए। क्यों ना ऐसी शिक्षा हमारे समाज में दी जाए जो दुखी को और दुखी व  सुखी को और सुखी ना  बनाती हो। 
अगर मिलती है यह जिंदगी एक बार तो क्यों नहीं उसे स्वतंत्र जिंदगी जीने दी जाए। यहां सब एक दूसरे को आरोप प्रत्यारोप करते हैं, पूरी जिंदगी निकाल देते हैं साजिशों और षड्यंत्रों में, तो क्यों ना उस मनुष्य को यह सिखाया जाए कि वह स्वतंत्र पैदा हुआ था, स्वतंत्र रहना ही उसका वजूद है और उसी के बलबूते उसे जीवन जीना है। क्यों  ना उसे किसी से उम्मीदों भरी दुनिया से दूर  स्वावलंबन का पाठ पढ़ाया जाए ताकि वह किसी भी क्षण ना टूटे, ना उसकी कोई लिप्सा उसे तगं करे। मरने मारने को उतारू यह दुनिया क्यों नहीं एक दूसरे को सुख चैन से रहने देती,। 
जब नियमों से सब संचालित है तो क्यों नहीं उन्हीं नियमों को ऐसा बनाया जाए जिससे सब जिंदगी को हंसते खेलते गुजार जाए एक छोटे बच्चे की तरह। बेखबर, बेपरवाह सा। 
किसी संस्था को चलाने के लिए, मुनाफा कमाने के लिए नियमों में बदलाव किया जाता है तो क्यों नहीं हमारी सोसाइटी ऐसे नियम बनाती जो आदमी को आदमी ही रहने दे, उसे जानवर ना बनाएं। कुछ लोगों की जिंदगी इतनी बेरहम बोझिल बदहवास सी महसूस होती है तो क्यों नहीं उसे भी यह एहसास कराया जाए कि जिंदगी बहुत खूबसूरत है।इन सब से परे भी जिन्दगी है,खुबसूरत सी। उस खुशबूदार जिन्दगी को जीने का हक उन्हें भी नसीब होना चाहिए। 
आखिर कैसे हैं ये जिन्दगी के नियम? किसने बनाये, क्यों बनाये, कैसे  बनाये? मैंने, आपने हमने या फिर जरूरतों ने? जिसने भी बनाए हो जैसे भी बनाए हो जहां भी बनाए हो खुद के स्वरूप , अनुरूप ही बनाए होगें। 
लेकिन हां अब उन नियमों को बदलने की जरूरत है उस समाजको, हमारे अपनों को। । डर डर कर रहना, लुकाछिपी, छीना झपटी, मारकाट, लूट कशोट यह सब भी तो नियमों में आ गए है आज। तो क्यों नहीं बदले जाते आखिर  ये जिंदगी के नियम, उसे जीने के नियम? इस बदलते परिदृश्य में विकास की तो तेज रफ्तार है, लेकिन विनाश भी बाहें फैलाये हर पल तैयार  है। हम ये कैसी जिंदगी जीने चल पड़े  जहां स्पीड तो तेज है लेकिन टायर का माल (मनुष्य की स्थिति) कभी भी जवाब दे सकता है। 
क्यों हम वेद पुराण रामायण महाभारत की  बात करते हैं,  क्यों हम अतीत और भविष्य मे उलझे  पडे हैं क्यों  हम आज की स्थिति और परिस्थिति  के अनुसार  नहीं जी पा रहे।  हम जिस युग में हैं उसी की बात करें, उसी के अनुरूप जिन्दगी के सफर को तरोताजा करे जिससे आज के मनुष्य को जिंदगी जीने मे आनंद आए  ना कि उसका बोझा ढोया जाए। 
Read More

जीवन या मृत्यु ---- के बीच की लाईन अवसाद

जहां देखो जिधर देखो एक गमगीन सा माहौल देखने को मिला। फेसबुक ट्विटर व्हाट्सएप सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर एक ही चर्चा- सुसाइड /आत्महत्या। 
चर्चा भी क्यों ना हो वह एक युवा कलाकार था जिसने संघर्ष दर संघर्ष अपनी ऊंचाइयों को छूते हुए दौलत शौहरत को अपने मुट्ठी में किया। बस कर न पाया अपने जज्बातों को अपने काबू में। एक मंजे हुए युवा की यह कहानी हर उस नॉरमल युवा को यह सोचने पर मजबूर कर गई कि आखिर क्या चाहिए था उसे? आखिर सब कुछ होने के बाद भी क्या शेष रह गया था जिसने उसकी जान ही ले ली?? या ऐसी कौनसी परेशानी या परिस्थतिया बन गई जिनका समाधान सिर्फ मौत ही लगा।               
चकाचौंध की दुनिया का वह मोहरा नहीं जानता था कि उस चमकती दुनिया में भी कई अन्धेरे कोने ऐसे होते हैं, जहाँ का घोर अन्धेरा किसी को दिखाई नही देता और उस घोर अन्धेरे कोने मे , कोई हाथ नहीं मिलता, जो उसके गिरते मनोबल को उठाकर जिंदगी की खूबसूरती को दिखला पाएं, या वापस उजाले की और दखेल पाए.. 
सुशांत सिंह राजपूत जैसे कलाकार की मौत ने हर युवा को अंदर तक खंगाल के रख दिया, सोचने पर मजबूर कर दिया कि हमारी युवा पीढ़ी किस ओर बढ़ रही है। 
डिप्रेशन( अवसाद),  परेशानी, सामाजिक तनाव, रिश्तो का कच्चापन, स्वास्थ्य, नौकरी का दबाव, कार्यक्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन, सामाजिक प्रतिष्ठा का दबाव, पारिवारिक दबाव इत्यादि क्या यही सुसाइड के कारण माने जा सकते हैं?
देशभर में बच्चों से लेकर युवा, बेरोजगार से लेकर नौकरी पेशा, दौलत एवं शोहरत के धनियो को भी आत्महत्या करते देखा गया है। 
सबसे पहले मैं उन बच्चों किशोरों पर चर्चा करना चाहूंगी जो आए दिन पढ़ाई के बोझ तले अपने आप को खत्म कर लेते हैं। कोटा (राजस्थान) इसका बेहतरीन उदाहरण है जहां हर साल आत्महत्या की कहानियां सुनने को मिलती हैं। कारणों का जब पता लगाया जाता है तो यही बात निकल कर आती है डिप्रेशन, टेंशन, मानसिक अवसाद, फेल होने का डर परिवार का दबाव। सफलता ने कुछ लोगों को तो इस कदर आदत में ला खड़ा किया की असफलता का दूसरा नाम" मौत" घोषित कर दिया गया.. घरवालों को रिजल्ट चाहिए, हर हाल में चाहिए। वह यह नहीं सोचते कि एक रिजल्ट से क्या वह जिंदगी बना देंगेउसकी ..क्या जीवन मृत्यु के सफर में केवल एक ही रिजल्ट चाहिए? ना जाने कितने बच्चों  के जिंदगीनामा के रिजल्ट खत्म  कर दिए उन मां बाप की थोथी लालसाओं ने.. ना जाने कितने बच्चों की जिंदगी छीन ली जबकि वे तो असल मायने में जिंदगी का मतलब जानते भी नहीं.. ।। 
इस तरह से एक युवा, आज का युवा ना जाने किस गली जा रहा है छोटे-छोटे शौक उसे इस कदर घेर लेते हैं कि वे आखिर में उसकी जिंदगी को खत्म करने पर उतारू हो जाते हैं। घर की जिम्मेदारियां, नौकरी का डर, रिशतो में समझौते  आज इस कदर हावी हो गये कि युवा ड्रिंक, ड्रग्स लेने से जरा भी नहीं हिचकिचाते। कहीं-कहीं तो शौक के तौर पर इन्हें अपना लिया जाता है। हम जिस समाज में रहते हैं वहां जिम्मेदारियां उठाना, रिश्तों में समझौते, कर्तव्य पालना जैसे पहलु बचपन में सिखा दिए जाते हैं बचपन से ही इस तरह की तालीम हमें दी जाती है कि कुछ भी हो जाए हमें हर हाल, हर परिस्थिति हर विपदा  में डटे रहना है और आगे बढ़ना हैं। ऎसे मूल्यों का बीजारोपण हमें सशक्त बनाता है कमजोर नहीं लेकिन आज का युवा इन्हें भुलाकर स्वयं पथभ्रष्ट हो जाता है वह जिंदगी जीने के लिए भौतिकवाद की और अग्रसर होने लगता है और  फलतः  वो खुशी की तलाश में नए नए फंडे अपनाता  है जो कहीं ना कहीं सुसाइड जैसे कृत्यों के आधार बनते हैं। 
कभी किसान तो कभी बड़े-बड़े  ऑफिसर भी इस तरह का घोर अपराध कर बैठते हैं। सब का कारण ढूंढा जाए तो भावनात्मक बुद्धि की कमी., दूसरों से अधिक अपेक्षा, स्वयं के सामर्थ्य से अधिक कार्य, दबाव, सहनशीलता की कमी, समय रहते स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं पर ध्यान न देना, समय का कुप्रबंधन, रिश्तो में अविश्वास, औपचारिकता एवं दिखावा, सफलता की चाहत, अपनों से दूरी एवं सोशल मीडिया की दुनिया में खोए रहना आदि है।
 मैंने एक शक्स का ऐसा दौर देखा जहां चारों तरफ अंधेरा था दूर-दूर तक कोई रोशनी की किरण नहीं..अपनो से अलगाव, पारिवारिक और सामाजिक दबाव, करियर की चिंता, बच्चों से संबंधित समस्या, ऊपर से कोर्ट कचहरी जैसी समस्त समस्याएं और साथ में आर्थिक हालातों ने तो जैसे एकदम पटरी पर ला खड़ा किया। चारों तरफ से छवि को धूमिल कर दिया गया लेकिन क्या उस शक्स को ऐसे में सुसाइड जैसे कदम उठाना चाहिए था? क्या जिंदगी की रेखा यहीं खत्म कर  लेनी चाहिए थी..? नहीं... ये स्टेप कभी भी  किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता था.. 
मैं जिस शक्स की बात कर रही हूं हम जैसे युवाओं में से ही एक था बस समझदारी उसकी यह रही कि बढ़ते दबाव एवं समस्याओं को अच्छे एवं समझदार दोस्तों संग शेयर कर हल किया, दूसरों से अपेक्षा खत्म कर खुद से अपेक्षा करते हुए लाइफ को सकारात्मक पटरी पर चलाना शुरू किया, स्वयं ने खुद की जिम्मेदारियां उठाते हुए एक समस्या के अनेक विकल्प तैयार किये, अपने आप को मोटिवेट करते हुए जिंदगी को बहुत खूबसूरती के साथ निहारा,नकारात्मक लोगों और विचारों से दूरी बनायी, लोगों की परवाह ना करते हुए खुद  की परवाह करनी शुरू की, सफलता और असफलता में अंतर खत्म कर जिंदगी को जिंदगी समझना शुरू किया, हर उस छोटे बड़े पल में खुशी ढूंढते हुए मुस्कुराना आदत में ला खड़ा किया, लोगों को नजरअंदाज कर खुद के नक्शे कदम जिंदगी को जीना शुरु किया, अच्छे बुरे सबसे कुछ ना कुछ सीखा अप्लाई अपनी जरूरतों के अनुसार किया। मेडिटेशन, भगवान में आस्था, प्रकृति लगाव , खुद पर विश्वास   ने  उस दौर को हरा दिया और ऐसे ही एक युवा ने अपनी जिंदगी बचा आत्महत्या जैसी दुर्भावना को सदा के लिए मिटा दिया।। 
तो क्यों ना हर युवा को, हर मां बाप अपने बच्चों को यह सब सिखाए की जिंदगी से डील नहीं , मौत से कैसे डील करनी है। शायद यही सब कुछ अपना कर हम बहुत से लोगों की जिंदगी बचा सकते हैं। हमें आत्महत्या करने वालों के साथ कभी भी खडा नही होना चाहिए भले ही वह अपने किरदारों से हमें रिझाए। एक सफल आदमी बनने के बजाय इंसान बनने व गुणवत्तापूर्ण जीवन जीने के लिए प्रेरित करना होगा। हमें भविष्य मे होने वाली इस महामारी को भांपते हुए आज के बच्चों, युवाओं को इस जिन्दगी खत्म कर देने वाली ट्रक पर जाने से रोकना ही  होगा। एक मजबूत हाथ अपनों के लिए सदैव रखना होगा। खुद पर विश्वास करना ही होगा।।
Read More