Laxmi-Levin



Laxmi-Levin

A passionate teacher and writter




Poetry

शून्य सी प्रीत

प्रेम की एक खूबसूरती ये देखी कि वो 
कभी कम नहीं होता
 हर दिन बढ़ता ही जाता है
चारो तरफ प्रेमत्व की खुशबू से
 प्रेम जीव को सराबोर करता रहता है
अनंत शून्य में जैसे कोई ब्लैक होल हो
वैसे ही इस अनंत ब्रह्माण्ड में 
प्रेम भी उसी भांति क्रियाशील रहता है 
जिसका कही कोई अंत नहीं,कहीं कोई छोर नहीं, 
और इसके सिवा कहीं कुछ और है भी नहीं, 
संपूर्ण सृष्टि में प्रेम और केवल प्रेम ही सर्वोपरि है!! ?!!
Read More

प्रेमत्व

हां, 
मैंने प्रेम करना
अपने प्रियतम से सीखा है।। 

कर्तव्यों के पथ पर
चलते हुए भी
प्रेम किया जा सकता है....

जिम्मेदारियों को निर्वहन
करते हुए भी
प्रेम किया जा सकता है...

बिना जताए और
बिना बताए भी
प्रेम किया जा सकता है....

आंखों से बोलकर और
 होठों को सिलकर
दिल से भी प्रेम किया जा सकता है... 

दुनिया से ओझल
इक दुजे से दूर, ख्यालों में
हर क्षण अपने प्रिय तम में खोकर 
बहुत  प्रेम किया जा सकता है.... 

हां 
प्रेम करना मैंने सीखा है
अपने प्रियतम से
और ये सीख दुनिया की
सबसे अमूल्य सीखों में एक है!
Read More

मत उलझ

गर बचानी हैं बेटी तुझे अपनी 
तो ना बीजेपी और ना कांग्रेस मे उलझ

हिन्द देश का वासी है तु
 ना हिन्दू और ना मुस्लमान में उलझ

भाईचारा हैं तेरा मूल सदा 
ना तु  यहां किसी जातिवाद में उलझ

गर बचानी हैं लाज तुझे अपनी
तो ना तु इन हुक्मरानों की हुकूमत में उलझ

हैं  ये सब तेरी आढ में आगे जाने वाले 
तो ना तु इनकी जादू सी बातों में उलझ

रहना है तुझे यही कही जमीन पर 
तो ना तु किसी क्षेत्रक वाद में उलझ

सीखा खुद अपनी लाडली को हर दांव-पेंच 
ताकि ना वो किसी की बाट देखे बचाने को

कर उस पर इक अहसान ऐसा
जिसे सीख वो महफूज़ करे इस धरा को

गर बचानी हैं बेटी तुझे अपनी 
तो खुद खडा हो नारी जात की रक्षा को।।
Read More

मैं हिंदी हूँ

कहने को तो मैं हिंदी हूँ 
देखो मुझे मैं कैसे जिन्दी हूँ। 

कहते हैं हिन्द देश के वासी
हम हैं हिन्दी भाषा के भाषी। 

कुछ सनातनी करते हैं संवाद यहां 
रक्षक हैं वो मुझ भाषा के भाषी। 

कहने को तो आज 
हर जुबां पे होगा मेरा नाम 

पर बहुभाषी खा गए देखो 
कैसे मेरा हर इक काम। 

लाचार सी हो गयी हू मैं 
गंवार हो गया आज मेरा भाषी 

अंग्रेजी बोलने वाला हो गया 
आज यहां  कैसे मधुर भाषी। 

कहने को तो मैं राष्ट्र भाषा हिंदी हूँ 
कैसे बताऊँ आपको 
कैसे अब मैं जिन्दी हूँ ।

सटीक सुलभ सौम्यता हैं मुझमें 
भावों की अभिव्यक्ति की 
अनोखी विधा हैं  देखो मुझमें। 

कुछ उलझी कुछ सुलझी सी अनजान सी हूँ मैं 
तुझ इन्डियन की दुनिया में पहचान सी हूँ मैं। 

जान के मुझको इतना 
अब तुम्हीं बताओ कैसे मै जिन्दी रहू?? 
तुम प्यारों की भाषा कैसे मै हिन्दी रहू??
Read More