Poems



 नक़ाब 

  Sanchay       2020-12-09 07:29:21

कितना छुपाओगे खुद को दुनिया की नज़र से
कि ये आँखे सारे राज खोलती है
चाँद छुपा बैठा है घूंघट के पीछे
ये घूंघट की अदाएँ बोलती है

ये हैरानी क्यों है इन आँखो मे
आपके दीदार की गुज़ारिश ही तो की है
एक पर्दा है हमारी खता और आपकी रज़ा के बीच
उस पर्दे को गिरने की वजह ही तो दी है 

-*-*-*-*-

More Poems


मानव जीवन

भरी दुपहरी को मैंने 
सुरज को ढलते देखा है
जिंदा इंसानों को भी मैंने
तिल तिल जलते देखा है

कांटों और अंगारों पर मैंने
सच को चलते देखा है
निश्चल मन में भी मैंने
भ्रम को पलते देखा है

सत्य को मौन रह मैंने
झुठ को चलते देखा है
चंद सिक्कों पर मैंने
चौले बदलते देखा है

Copyright
Kaviraj Rj yogi 
Baya-sikar 
Rajasthan
Read More

घर के वृक्ष

वैसे तो पुष्प लता और वेल हर मन को हर्षाती है,
क्योंकि उनकी महक और छटा की बद्री सब जग पर छा जाती है।
किन्तु परन्तु आज इन रंगों को और अब मैं ना देखूंगा,
सब जिस पर मनमोहित है, इन सब पर आज नजर ना फैरूंगा।
आज मै सोच रहा हूं उस दरख़्त को देख कर,
जिसकी छाया के नीचे, सींचती हुआ है ये वन मनोहर।
उस विशाल वृक्ष जिसके नीचे बसी है ये बगिया,
जिसके होने से खिली है पुष्प लता और ये कलिया।
इसी वृक्ष के नीचे गुजरे है ,जहां हर एक मौसम,
हर धूप में जिसकी छाया में सब ने पाया है मरहम।
बारिशों में भी आंधियों से उसने ही बचाया था,
सर्दियों में उसके नीचे हर फूल फूल मुसकाया था।
हर कोई बगिया को देखता है, पर उस तरू को ना देख पाता है,
पर वह अपने नीचे खिले हर पुष्प को देख देख मुस्काता है।
इसलिए है वृक्ष! आज मेरा वंदन स्वीकार करे,
अपने घरों के वृक्षों से हम सब, इस तरह से प्यार करे।
Read More

कोरोना की विदाई

बादल उमड़ना भूल गए,  
धरती माता रो रही। 
कांप रही कोंख सभी,
दुनिया डग मग हो रही। 

शादी से पहले दुल्हन डरे,
मांग लिए कोरी कोरी।
जिंदगी के इस पड़ाव में,
यमराज खींच रहा डोरी। 

एक कमरे सिमटी दुनिया, 
ये कैसी चली बीमारी। 
बिना दिखे ही वायरस ये, 
मानवता पर भारी। 

मौज मस्ती भूल गए,  
दुख की आंधी तेज चली। 
राजा राजा लड़ रहे ,
लोग मर रहे गली गली। 

आया क्यों कहाँ से, 
इंसान तेरी सवारी। 
इस सूक्ष्म जीव की,
अब विदाई की तैयारी। 

बला बड़ी है, जतन करो, 
मत समझो इसे टली। 
मास्क लगाओ, हाथ धोवो,
काढ़ा की तो घुट भली। 
 
ज़हर घुला हवाओ में, 
साँस नहीं रुकने देंगे। 
लड़ेंगे, भिड़ेंगे, भगाएंगे 
प्रयास नहीं रुकने देंगे। 

वैक्सीन हमने बनायीं है ,
दवाई  और बना लेंगे। 
आस बहुत है, साहस बहुत है ,
प्रयास नहीं रुकने देंगे। 

तूने बेड बहुत लगवाए ,
माँ बहनो को खूब रुलाया। 
तेरे कहर से भी बच जायेंगे ,
प्रयास नहीं रुकने देंगे। 

बॉम्बे फ्लू भी आया था ,
प्लेग भी आया था। 
जब हमने हुंकार भरी , 
उलटे पाओ भागा था। 

जंग बहुत जीती है हमने ,
हमने सबको हराया है। 
कैसी अजीब जंग है  ये,
हमारा सह्ययं आजमाया है। 
 
तूने बहुत खेल लिया,
ये अब हमारा वार है। 
कितना भी तू जोर लगा ले , 
अब तो हम तैयार है। 

बाहें बहुत फैलायी तुमने ,
इम्युनिटी हमारा हथियार है। 
बच गए अगर हम तुझसे ये ,
हमारी जीत और तेरी हार है।
Read More

खुशियों के दिन फिर आवैंगे

दु:ख के  बादल छट  जावैंगे
थाम उस प्रभु का नाम जपो
खुशियों के दिन फिर आवैंगे
हृदय..  में.  .. विश्वाश .रखो!

दुश्मन तै हाम्म डरते कोन्या
पीठ  दिखा  कै भागे कोन्या
जिब तक भागै नहीं  करोना
थाम  घर  में ही आराम करो।

जै   थारे   लडज्या    करोना
इस तै बिलकुल नहीं डरो ना
तुलसी गिलोय काढ़ा  पीकर
इसका...काम...तमाम. करो !

गलती  थामनै बहुत करी सै
धरती   नै   बंजड़   करी  सै
पेड़  लगाकर धरती  मां  पर
ऑक्सीजन  का निदान करो।

हवा ....झूम ....कै.. .गावैगी
सभ.. नै.... गीत... सुणावैगी
फिर  खिल ज्यांगी फुलवाड़ी
थाम थोड़ा धीरज धारण करो।

             ©️ अशोक योगी
            कालबा हाउस नारनौल
Read More

फिर ना उदास होना

रात के बाद दिन का ही, हैं होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना ll

ये मुश्किल दौर का भी,हैं खत्म होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना 

काली घटा के बाद ही हैं, नीले आकाश का होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना ll

दुःख के बाद ही हैं, निश्चित सुख का होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना ll

पतझड़ के बाद ही हैं, हरितमय का होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास  होना ll

तपती धरती के बाद ही हैं, इसको गिला होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना ll

पसीने के बाद ही हैं, शरीर का ठंडा होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना ll

आंधी के बाद ही हैं, निरव बयार का होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना l

अभी समय हैं कठिन,पर इसको  हैं फिर से सुन्दर होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना ll

जी जीवन को ऐसे, जैसे कल ये हो ना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना ll

काम कर जा ऎसा,  पृथ्वी महके कोना कोना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना ll

ना गुमान कर देह पे, इसको हैं मिट्टी होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास  होना ll

हैं यही सत्य, किसी को नहीं हैं अमर होना l
ऐ उदास मन, फिर ना उदास  होना l

ऐ उदास मन, फिर ना उदास होना.......

"स्नेहिल राज "
02.05.2021
Read More

हम महाकाल को पूजने वाले भारत की संतान है

रब ने ब़ख्से सबके हिस्से अवनी अम्बर अग्नि आब़और पौन हैं
फिर  इंसानों   को  काफ़िर   कहने  वाले  ये   ज़ाहिल  कौन  हैं।

जो   सीखाता   हो   नफ़रत   इंसानों   से   वो  अल्लाह  कैसा
या   तो नुक़्स   है ख़ुदा  में  तेरे या  संगदिल  तेरा  दृष्टिकोण  है।

ग़र   ज़न्नत   नसीब   होती   है   तुझे   काफिरों   के  क़त्ल  से 
तो   शियाओं   का   ख़ून   बहाने   वाले   ये   सुन्नी   कौन    हैं।

ग़र   बरसती   है   रहमत   अल्लाह  के  फ़ज़ल  से  दुनियां में
तो मज़लूमों का ख़ून बहाने वालों पर तेरा अल्लाह क्यों मौन है।

यूं  न  मिटा  पाएगा  हस्ती  हमारी  तू  चाहे  जितना  बड़क  ले
मरकर  भी  मिटती नहीं  हस्ती हमारी कहने वाली तेरी कौम है।

मिट   गए   मुहम्मद़ अक़बर   गौरी   और   गज़नवी   जहां   से
घट- घट में बसने वाले राम हमारे अब भी दुनियां के सिरमौर है।

हम    महाकाल    को   पूजने   वाले   भारत   की   संताने   हैं
अर्जुन   से   धनुर्धर   बनाने   वाले   जिन्दा  अभी  गुरु द्रोण हैं 
Read More

विद्युत कर्मी

कट रही है ज़िन्दगी, जैसे,जी रहे वनवास में l
हम विधुंत कर्मी है, ड्यूटी करें हर सांस में।

हम फंसे इस जाल में, सब चिंता करते गांव में,
जिंदगी मानो ठहर गई है, बेडी जकडी पाँव में। 

सबकी  छुट्टी हो गई, बिजली ने पकडी रफ्तार, 
फिर भी लोग कहे, बैठा कर पैसा देती है सरकार। 

घर में राशन नही, फिर भी ड्यूटी जाते है, 
सारी दुकाने बन्द हो जाती, जब हम वापस आते हैं। 

माँ बाप सिसककर पूछ रहे,बैटा तुम कैसे खाते हो, 
जब पूरा देश बन्द है तो, तुम ड्यूटी क्यो जाते हो। 

यहाँ सबकुछ मिल रहा, झूठ बोलकर माँ को समझाते है, 
देश के लिये समर्पित जीवन, इसलिए ड्यूटी जाते हैं। 

सेना,शिक्षक,डाँक्टर नही हम, सम्मान नहीं हम पाते हैं,
हम तो विधुंत कर्मी हैं साहब, केवल अपनी ड्यूटी निभाते हैं  ।

Dedicated to NTPC Engineers
Read More

जादू किताब

ये कैसी जादू किताब है, कैसे बनी इसका क्या है हिसाब है|| 

100 खंड, 1000 उपखण्ड,  हजारो  पन्नो  की पोथी,
कर्मचारी के लाभ में ये हमेशा लगती क्यों थोथी | 
ये कैसी जादू किताब है, कैसे बनी इसका क्या है हिसाब है|| 

नियम बहुत लिखे है लेकिन फिर भी लगे न पूरी, 
दिमाग हमने बहुत खपाया, अब भी समझ अधूरी | 
ये कैसी जादू किताब है, कैसे बनी इसका क्या है हिसाब है|| 

कामगार हो या कोई विद्वान, समझ न सका इसकी विज्ञानं, 
ये कौन ऐसी पुस्तक है, जिसका  मैनेजमेंट करता गुणगानं 
ये कैसी जादू किताब है, कैसे बनी इसका क्या है हिसाब है|| 

बिना एक अक्सर बदले ही ये कैसे नियम बदल जाता 
हर पंक्ति का मतलब है पर हमें समझ नहीं आता |
ये कैसी जादू किताब है, कैसे बनी इसका क्या है हिसाब है||
Read More

बचपन का ज़माना था

एक बचपन का ज़माना था
जिसमें खुशियों का खजाना था
चाहत चांद को पाने कि थी
पर दिल तितली का दीवाना था

ख़बर न थीं कुछ सुबह की 
न शाम का ठिकाना था 
थक कर आना स्कूल से 
पर खेलने भी जाना था 

मां की कहानी थी 
परियों का फ़साना था 
बारिश में कागज़ कि नाव थीं 
हर मौसम सुहाना था. 

रोने कि वजह ना थीं 
 न हसने का बहाना था
क्यों हम इतने बड़े हो गए
इससे अच्छा तो वो बचपन का ज़माना था
Read More

मेरे जनाजे पर अश्क बहाने वाले वाले लोगो

जम्हूरियत -ए- हुक़ूमत हूं पर  वहाबी  नहीं  हूं मै
मयकश -ए- नबी का हूं    पर  शराबी   नहीं हूं मै

माना कि  शौक है   तितलियों  को छूने  का  मुझे
पर, पर कुतर  दू किसी का ऐसा कसाबी नहीं हूं मै

तेरे चिलमन के इंतजार में खुले है  झरोखे अब तलक
अदना सा आदमी हूं कोई ओलीया  नमाज़ी नहीं हूं मै

कभी वो आंखों का सुरूर हुआ करते हमारे  जनाब
अब उसके  सुर्ख होंठों  की  शराब   पुरानी नहीं हूं मै

बहक जाता है  उसकी  बेकसी  के आलम में " योगी"
शायद अब  उसके  ख्वाबों   की  जिंदगानी  नहीं हूं मै

मेरे जनाजे पर अश्क  बहाने   वाले   ना  कदर  लोगो
बद अख्तर न समझ मुझको  इतना   बादाबी नहीं हूं मै
Read More

एक रात सपनो की

अब तो गहरा गई है रात चलो सो जाएं
ख़ाब में होगी मुलाक़ात चलो सो जाएं

रात के साथ चलो ख़ाब-नगर चलते हैं
साथ तारों की है बारात चलो सो जाएं

रात-दिन एक ही होते हैं जुनूं में लेकिन
अब तो ऐसे नहीं हालात चलो सो जाएं

रात की बात कहेंगे जो ये परेशां गेसू
फिर से उट्ठेंगे सवालात चलो सो जाएं

नींद भी आज की दुनिया में बड़ी नेमत है
ख़ाब की जब मिले सौग़ात चलो सो जाएं

फिर से निकलेगी वही बात कभी बातों में
फिर बहक जाएंगे जज़्बात चलो सो जाएं
Read More

मेरा जीवन बन गया मधुबन

थिरकते पांव , उमड़ते भाव
शादी   की   शहनाई   में
झंकृत मन, अलंकृत तन
वसंत  की   तरणाई   में
मधुर..  मकरंद ..    सा 
फिर   खिले   तेरा  यौवन
प्रेम तुम्हारा पाकर "प्रिये"
मेरा जीवन बन गया मधुबन।

किसलय कोपल संग नव प्रभात हुआ
अंबर... में.. अरुणिमा... छाई
जीवन    सुंदर     स्वप्न    बना
जब  से  तुम  जीवन  में  आई
महकते  रहना  घर   आंगन में
बनकर   सुगंध    चंदन    वन
प्रेम  तुम्हारा...पाकर.... "प्रिये"
मेरा   जीवन  बन गया   मधुबन ।

मृदुल   तन    ,रक्तिम   मुख
उदय   होता  मानो दिवाकर
सुनकर मधुकर की मधुर गुंजार
तुम.... आओ न .......... प्रिये
कर ..  नव ..  यौवन ..  श्रृंगार
जागृत  करें  स्वप्निल  दृगों में_
प्रथम .......वसंत......मिलन
प्रेम ...तुम्हारा.. पाकर.. "प्रिये"
मेरा  जीवन   बन  गया  मधुबन
Read More

शून्य सी प्रीत

प्रेम की एक खूबसूरती ये देखी कि वो 
कभी कम नहीं होता
 हर दिन बढ़ता ही जाता है
चारो तरफ प्रेमत्व की खुशबू से
 प्रेम जीव को सराबोर करता रहता है
अनंत शून्य में जैसे कोई ब्लैक होल हो
वैसे ही इस अनंत ब्रह्माण्ड में 
प्रेम भी उसी भांति क्रियाशील रहता है 
जिसका कही कोई अंत नहीं,कहीं कोई छोर नहीं, 
और इसके सिवा कहीं कुछ और है भी नहीं, 
संपूर्ण सृष्टि में प्रेम और केवल प्रेम ही सर्वोपरि है!! ?!!
Read More

प्रेमत्व

हां, 
मैंने प्रेम करना
अपने प्रियतम से सीखा है।। 

कर्तव्यों के पथ पर
चलते हुए भी
प्रेम किया जा सकता है....

जिम्मेदारियों को निर्वहन
करते हुए भी
प्रेम किया जा सकता है...

बिना जताए और
बिना बताए भी
प्रेम किया जा सकता है....

आंखों से बोलकर और
 होठों को सिलकर
दिल से भी प्रेम किया जा सकता है... 

दुनिया से ओझल
इक दुजे से दूर, ख्यालों में
हर क्षण अपने प्रिय तम में खोकर 
बहुत  प्रेम किया जा सकता है.... 

हां 
प्रेम करना मैंने सीखा है
अपने प्रियतम से
और ये सीख दुनिया की
सबसे अमूल्य सीखों में एक है!
Read More

SAFE IN HEARTS

Oh, you too forgot,
It is ok, though it pains,
I am sure, it helped,
Pain keep coming,
Is it natural?
It is ok, it makes us strong,
I am sure, that was a help from me,
It is ok, if it eases their pain,
I feel pity for them,
if you hurt anyone,
it may come as boomerang,
The pain makes us soft,
It is ok, God help us to bear,
Struggles shows the new path,
Be thankful for the ache,
Remember it for a story,
Be the way, Be remembered,
Make the life very simple,
Don't be serious, it is ok to loose,
Be happy, make them feel happy,
Yes, life is too short to waste,
Be ray of light, it is ok others may be dark,
It is ok, be there to take the pain,
It makes you to live in the heart of others,
How nice it will be?
You are safe in the heart of others,
You are safe.
Read More

वक्त

एक वक्त था जो बीत गया
वक्त के साथ भाग्य फिसलता गया
वक्त की अनदेखी की थी हमने शायद 
वक्त ने हमारा वक्त ही बदल दिया

 मैंने घड़ी को कई मर्तबा देखा होगा 
मगर उस समय चक्र को समझ नहीं पाया 
इस अनदेखी से काल के उस चक्र को 
अभिमन्यु सा में ना तोड़ पाया

मैं चला था अपना वस्तुनिष्ठ भाग्य लेकर 
अनदेखी ने मुझको उलझनों का मंदिर बना दिया 
इस वक्त की मार ने मुझको 
उलझनो के समाधान का मुसाफिर बना दिया

आगे बढूं तो फिसलू  मैं
पर वक्त ने ही मुझको संभलना सिखा दिया 
अब खुद में हिम्मत जोश फूंक कर 
 अभिमन्यु सा मै कालचक्र से आजमाइश करना चला गया

अब मैंने सीख लिया है वक्त से
 वक्त के साथ फतेह तक चलने का सलीखा
फिर से चल पड़ा हूं अपना वस्तुनिष्ठ भाग्य लेकर 
उम्मीद यही की अनदेखी न कर अपना भाग्य फिर से सवार सकूं
Read More

आगे बढ़ते रहो

लड़ते रहो, गिरते रहो पर, आगे बढ़ते रहो l
टूटते रहो, जुटते रहो, पर आगे बढ़ते रहो ll

***** ***** ***** ***** *****

सोने की तरह आग मे गलो , पर आगे बढ़ते रहो l
कठिन दुश्वारियों को गले लगाओ, पर आगे बढ़ते रहो ll

***** ***** ***** ***** *****

किसी को गिरा के नहीं, पर पछाड़ के आगे बढ़ते रहे l
किसी से अलगाव करके नहीं, पर मिलाके आगे बढ़ते रहो ll

***** ***** ***** ***** *****

किसी को रुला के नहीं, पर हंसा के आगे बढ़ते रहो l
किसी को फसा के नहीं, पर सुलझा के आगे बढ़ते रहो ll

***** ***** ***** ***** *****

किसी को मिटा के नहीं, पर बना के आगे बढ़ते रहो l
किसी को तिरस्कृत करके नहीं, पर प्यार दे के आगे बढ़ते रहो ll

***** ***** ***** ***** *****
किसी को दिखाने के लिए नहीं, पर अलख जगाने के लिए आगे बढ़ते रहो l
खुद के लिए नहीं, देश को बढ़ाने के लिए आगे बढ़ते रहो, देश को आगे बढ़ाने के लिए आगे बढ़ते रहो ll

***** ***** ***** ***** *****

"स्नेहिल राज "
काँटी, मुजफ्फरपुर 
बिहार 
15.12.2020
Read More

नक़ाब

कितना छुपाओगे खुद को दुनिया की नज़र से
कि ये आँखे सारे राज खोलती है
चाँद छुपा बैठा है घूंघट के पीछे
ये घूंघट की अदाएँ बोलती है

ये हैरानी क्यों है इन आँखो मे
आपके दीदार की गुज़ारिश ही तो की है
एक पर्दा है हमारी खता और आपकी रज़ा के बीच
उस पर्दे को गिरने की वजह ही तो दी है
Read More

आजकल रिश्तो में वो बात नहीं होती

आजकल     रिश्तों   में    वो    बात  नहीं  होती,
जिस्मानी मुहब्बत में रूह से मुलाकात नहीं होती !

बांट   दिया  फिरका  -परस्तो ने  मजहब  को यहां,
वरना आदमियत की कोई नस्ल और जात नहीं होती !

महफ़िले  सजती  हैं तंग  गली  के  दावत खानों में 
हाथी, घोड़े  पालकी  वाली  अब बारात  नहीं होती !

सिसक  रहा  है  बचपन  मैकाले  के  लादे   बस्तों में
पांच  सितारा  स्कूलों में  संस्कारों की बात नहीं होती !

जवानी छीन ली इडली,डोसा बर्गर जैसे पकवानों ने
खाने  में  अब   सीरा,  लापसी  और पात  नहीं होती !

फिजाओं में भर दिया ज़हर शजर पर खंजर चलाकर,
सावन में  अब  रिमझिम रिमझिम  बरसात नहीं होती !

दफ़न   है  सफ़र- ए-  जिन्दगी   इस्पाती   इमारतों  में ,
छतों पर  ताकती  सितारों  वाली  अब  रात नहीं होती !

यूं  तो  तरक्की बहुत की है "योगी " ने शहर के सफ़र में,
मगर   शहर  में अब  भगिनी और मां साथ  नहीं   रहती !
Read More

Memories

Most things are forgotten over time.
Even the war itself, the life-and-death struggle people went through is now like something from the distant past.

We’re so caught up in our everyday lives that events of the past are no longer in orbit around our minds.

There are just too many things we have to think about everyday, too many new things we have to learn. 

But still, no matter how much time passes, no matter what takes place in the interim, there are some things we can never assign to oblivion, memories we can never rub away.

They remain with us forever, like a touchstone......??
Read More

शुभ दीपावली !!! 2020

आओ हम सब मिलकर दीपवाली मनाये l
और अपने अहंकार को मूल से मिटाये ll

***** ***** ***** ***** *****

आओ हम सब मिलकर दीपवाली मनाये l
एक अवगुण को तो  दीप मे जलाकर नष्ट कराये ll

***** ***** ***** ***** ****** 

आओ हम सब मिलकर दीपवाली मनाये l
अपने तन, मन और धन से किसी निर्धन परिवार को पुलकित कराये ll

***** ***** ***** ***** *****

आओ हम सब मिलकर दीपवाली मनाये l
बच्चों का बचपन उनको ख़ुशी ख़ुशी लौटाये ll

***** ***** ***** ***** *****
आओ हम सब मिलकर दीपवाली मनाये l
स्नेह  से सबको अंगीकार करने का गुण अपनाये ll

***** ***** ***** ***** ******

आओ हम सब मिलकर दीपवाली मनाये l
आत्मबल रूपी तेल से अपने को जलाये ll

***** ***** ***** ***** ******
आओ हम सब मिलकर दीपवाली मनाये l
सर्वजन सुखाय की अनोखी रीति की अलख जगाये ll
Read More

ऐसी दिवाली मनाएं

आओ अबकी  बार  ऐसी  दिवाली  मनाएं ,
भूखे,प्यासे मजलूमों के घर प्रेम के दिए जलाएं !

भरे   हुए   पेटों   की   छोड़कर   चिन्ता,
फुटपाथ पर बैठे किसी यतीम को खाना खिलाएं !

भर  जाएं  कोठे  अन्नदाता  के  धान से,
मेघाच्छिदत अंबर से विनती कर प्रेमरस बरसाएं !

सब  जगह हो  हर्षोल्लास, सब  रहे  निरोगी,
ऐसी  मंगलमयी  भावना  के फिर  से  गीत गाएं !

कोई  विरहणी  न  आकुल  हो  पिय  बिन ,
सबके  घर  आँगन  माँ  लक्ष्मी प्रेमधन बरसाएं !

भय ,भूख भ्रष्टाचार मिटे,सनातन भारत फिर बढे,
आओ सब मिलकर भारत को फिर विश्वगुरू बनाएं !

न रहे अंधेरा दूर क्षितिज तक,चमक-चाँदनी हो अंबर मे,
अवनी से अंबर तक कलम 'योगी' की आशा के दीप जलाए !
Read More

क्रांति

दुनिया की भीड़ में नजर क्यों कोई आता नहीं l
डरे से हैं सब लोग क्यों इनके खून में उबाल आता नहींll

गर्दन झुका के जो जीना सीख लिया क्यों गर्व से गर्दन कोई उठाता नहींl
अहिंसा और कायरता में इन्हें क्यों नहीं अंतर समझ आता नहींll

पड़े देख घायल को रास्ते में हर कोई आहे भरता है क्यों आकर उसे कोई उठाता नहींl
आक्रोश में जल रही हैं आंखें क्यों इन में खून उतर आता नहीं ll

अन्याय को सहना सीख लिया क्रांति का चिन्ह नजर आता नहींl
स्वतंत्र हुए सालों बीत गए पर गुलामी का असर जाता नहीं ll

वक्त बदला हालत बदली विकास दर पर दर होता गया 
पर क्यों गरीब लाचार की हालत वही है उसका स्वर आज भी संसद की दीवारों में सुना जाता नहींl
समय और साम्राज्य बदले पर भी क्यों यह दास्तां का कलंक जाता नहींll

सभी जानते हैं ना कुछ लेकर आए थे ना कुछ लेकर जाएंगे
फिर भी इंसान को इंसान क्यों पहचानता नहींl
जाने किस मद में मदहोश हैं लोग कोई खुद को पहचानता नहींll

प्रश्नों की है झड़ी दिल में उत्तर क्यों  नजर आता नहीं


सदाचार सब अपन हुए इमानदारी वह कर्तव्य निष्ठा बनी भिखारी है l
धूर्तता और चाटुकारिता ने बाजी मारी है, जहां देखो यह एस करें बाकी सब में मारामारी हैll

जीवन मूल्यों के इस खेल में स्वाभिमान क्या यूं ही हारता जाएगाl
 यूं ही एक कामचोर कामकाजी की खिल्ली उड़ाएगाl
क्या यही है श्री राम का "हंस चुगेगा दाना तिनका कौवा मोती खायेगा" ll
Read More

आज और कल

जो हैं वो आज मे ही  हैं, कल तो केवल एक एहसास हैं l
ख़ुशी भी आज ही हैं, बनाना भी  आज ही सुन्दर मिजाज हैं ll

मन को ना उलझाओ कल मे l
सब समेटो आज की ही हलचलll

जिओ आज का हरेक पल l
क्योंकि हो ना हो कल ll

खेलो, कूदो खुशियाँ मनाओ आज l
सब कर दो नयोझवार मनराज ll


दाता का दिया आज, भर दो साहस से l
मुरीदे भी पूरी कर लो आज सब अपने तन मन से ll
Read More

दोस्त

ज़िन्दगी में तो बहुत उतार चढाव हैं l
इसके कभी सहज़ -सरल तो कभी कठिन स्वभाव हैं ll

दोस्तों का साथ होना, सुन्दर सा एहसास होता हैं l
उनसे सुख -दुःख बाटने का काम आसान होता हैं ll

ज़ब हमसफर हो सहयोगी और समझदार l
तब हर सफर भी लगता है सदाबहार ll

बचपन की यादो से तो अब अभिमान होता हैं l
थी थोड़ी सी जरूरते पर ख़ुशी का बहुत पान होता था ll


जीवन को तो अपने ही सुनहले रंगों से सजाना हैं l
दूसरों की सुनके इसको नहीं बदरंग बनाना हैं l


सोचो और करो आत्मा परिछन और ढूंढो जिंदगी का लक्ष्य l
पाओगे एक चीज की करो सबके लिए कुछ कर्म ll
Read More

मत उलझ

गर बचानी हैं बेटी तुझे अपनी 
तो ना बीजेपी और ना कांग्रेस मे उलझ

हिन्द देश का वासी है तु
 ना हिन्दू और ना मुस्लमान में उलझ

भाईचारा हैं तेरा मूल सदा 
ना तु  यहां किसी जातिवाद में उलझ

गर बचानी हैं लाज तुझे अपनी
तो ना तु इन हुक्मरानों की हुकूमत में उलझ

हैं  ये सब तेरी आढ में आगे जाने वाले 
तो ना तु इनकी जादू सी बातों में उलझ

रहना है तुझे यही कही जमीन पर 
तो ना तु किसी क्षेत्रक वाद में उलझ

सीखा खुद अपनी लाडली को हर दांव-पेंच 
ताकि ना वो किसी की बाट देखे बचाने को

कर उस पर इक अहसान ऐसा
जिसे सीख वो महफूज़ करे इस धरा को

गर बचानी हैं बेटी तुझे अपनी 
तो खुद खडा हो नारी जात की रक्षा को।।
Read More

तुमको निगाहें ढूंढ़ रही हैं

झिर मिर झिर  मिर मेहा बरसे
पागल मनवा मिलन को  तरसे
मन चंचल .चित. चोर हुआ  है
छोड़ ..गए.. हो.. तन्हा. जबसे।

बंद हुआ चिड़ियों का चहकना
छोड़ दिया गुलशन ने महकना
आंखे  .. दरियां..   बन ..  गई
दूर... हुए ..हो.. जबसे.. हमसे।

तू ...जबसे ...है.. रूंठ.... गया
पर्वत.. का.. झरना .. सूख गया
बंद हुआ.. बरगद  का बड़कना
चले ...गए ..हो .यारा... जबसे ।

तुमको... निगाहें ...ढूंढ़ ..रही हैं
मिलन  आश  में   झूम   रही  हैं
अा  जाओ   तुम  बन कर  पुर्वाई
आंखे निर्झर बरस रही जाने कबसे।
Read More

मैं हिंदी हूँ

कहने को तो मैं हिंदी हूँ 
देखो मुझे मैं कैसे जिन्दी हूँ। 

कहते हैं हिन्द देश के वासी
हम हैं हिन्दी भाषा के भाषी। 

कुछ सनातनी करते हैं संवाद यहां 
रक्षक हैं वो मुझ भाषा के भाषी। 

कहने को तो आज 
हर जुबां पे होगा मेरा नाम 

पर बहुभाषी खा गए देखो 
कैसे मेरा हर इक काम। 

लाचार सी हो गयी हू मैं 
गंवार हो गया आज मेरा भाषी 

अंग्रेजी बोलने वाला हो गया 
आज यहां  कैसे मधुर भाषी। 

कहने को तो मैं राष्ट्र भाषा हिंदी हूँ 
कैसे बताऊँ आपको 
कैसे अब मैं जिन्दी हूँ ।

सटीक सुलभ सौम्यता हैं मुझमें 
भावों की अभिव्यक्ति की 
अनोखी विधा हैं  देखो मुझमें। 

कुछ उलझी कुछ सुलझी सी अनजान सी हूँ मैं 
तुझ इन्डियन की दुनिया में पहचान सी हूँ मैं। 

जान के मुझको इतना 
अब तुम्हीं बताओ कैसे मै जिन्दी रहू?? 
तुम प्यारों की भाषा कैसे मै हिन्दी रहू??
Read More

जय हो भारत भाषा

सदियों  से दासता की बेड़ी पड़ी रही
पर तू स्वाभिमान से हमेशा अड़ी रही।

उर्दू , फ़ारसी  और  अंग्रेजी  के आगे
तू    सीना    तानकर     खड़ी    रही।

असंख्य   भाषाओं   के    उपवन  में 
तू    बहन    सदा    ही     बड़ी   रही।

अहिंदी    भाषी     राज्यो     में    भी
तू    संपर्कों   की   भाषा   बनी  रही।

कभी      नागरी ,    कभी     कौरवी
कभी    बनकर    बोली   खड़ी   रही।

मुंशी ,   महादेवी    की   जिहवा   से
तू   कल कल   सरिता  सी  बही रही।

नाथ    साहित्य    से     अब   तलक 
तू   अपने   पांवों   पर   खड़ी    रही।

जय  हो  जय हो  जय हो हे भारत भाषा
तू भारत भाल पर बिंदी बनकर जड़ी रही।
Read More

हिंदी दिवस

हिंदी दिवस की शुभकामनायें 

आओ हम सब मिलकर हिंदी भाषा को भावनाओं  मे समाये l
मिलजुल कर इसको सर्वोच्च शिखर पर पहुचाये ll

***** ***** ***** ***** ***** 

यह  एक भाषा ही नहीं पूर्वजो की  पहचान है l
यह सहज़, सरल, मीठी और बहुत आसान है ll

***** ***** ***** ***** ***** *****

केवल भारत मे ही नहीं यह सब देशो मे भी  अंगीकार हैं l
बच्चे, बूढ़े, युवा सभी के लिए यह  स्वीकार हैं ll

***** ***** ***** ***** ***** 

लिखने, सुनने, पढ़ने और बोलने मे भी  ये मजेदार हैं  l
लगा तो अपनी कौशलता तो लगती  ये लच्छेदार हैं  ll

***** ***** ***** ***** *****

अग्रेंजी ने इसके ऊपर थोड़ी से धूल की परत चढ़ाई है l
फिर भी हिंदी भाषा ने बहुत इज्जत कमाई है ll

***** ****** ****** ****** ****** 
हम तो हिंदी भाषा के बड़े दीवाने हैं l
यह मेरे रूह मे बसती है ना ही यह मेरे लिए अनजाने हैं ll

***** ****** ****** ****** 
बच्चन, अटल बिहारी बाजपेयी, दिनकर ने इसके अलख को जगाया है l
गांव, कस्बो, शहरों ही नहीं इसे महानगरों तक पहुंचाया है ll

***** ***** ***** ***** ******
आओ हम सब मिलकर यह बात जान ले l
हिंदी से ही होगा समुचित विकास यह मान ले ll
आओ हम सब मिलकर यह बात जान ले l
हिंदी से ही होगा समुचित विकास यह मान ले ll

***** ****** ***** ****** ******
राज कुमार 
काँटी, मुसफ्फरपुर 
बिहार 
14.09.2020
Read More

औरत

मैं हू अमृत रूपी जीवनदायिनी औरत l
मैं हू सब जिम्मेदारियों को निर्वहन करने वाली औरत

मैं हू निडर, निश्छल और साहसी औरत l
मैं हू सब पर भारी पड़ने वाली औरत ll

मैं हू जज्बातों से परिपूर्ण औरत l
मैं हू मुश्किलों से निजात देने वाली 

मैं हू पूरे परिवार का पोषण करने वाली औरत l
मैं हू जिंदगी को जिंदादिल जीने वाली औरत ll

मैं हू कठिनाइयों  से लड़ने वाली औरत l
मैं हू दुश्मनो के दाँत खट्टे करने वाली औरत ll


मैं हू समाज को प्रेरणा देने वाली औरत l
मैं हू खालीपन दिलो को भरने वाली औरत ll
Read More

संगिनी

तेरे बिना ज़िन्दगी से नहीं कोई आस l
ये जिद है मेरी की तू रहे हमेशा मेरे पास ll


तुम मेरी आवाज़ की बन जाओ गीत l
मैं बना रहा हू तुम्हारा सच्चा मनमीत ll


तुम बन जाओ विशाल धरती तो मैं बन जाऊ खुला  आसमान l
इस दुनिया मे ना हो कोई जोड़ी अपने समान ll


मैं सागर तो तुम उसकी अस्तित्व की जल कण l
बहती तुम मेरे  साथ हर छन -हर पल ll


हम दोनों उपवन के दो मनोरम सुगन्धित फूल l
खुद भी खिले, सबको खिलाये और रहे सदा कूल ll


मैं तुम्हारा हंस तो तुम मेरी मोहक हंसिनी l
मैं तुम्हारा सखा तो तुम मेरी संगिनी ll

तुम मेरी शमा तो मैं तेरा परवाना l
इस जहा मे मेरे जैसा कोई नहीं तेरा दीवाना 

हम हमेशा एक दूसरी की बनते है आवाज़ l
यही है हमारा जिंदगी की खुशहाली का राज ll
Read More

तेरी औकात बता गया कोई

सोए  हुए  मेरे    ख्वाबों  में   आ   गया कोई
मुद्दतों बाद मेरे जज़्बातों को जगा गया कोई।

डूबे  हैं  कई   बेगुनाह   दरिया -ए- हयात  में
बहर-ए-तलातुम में भी किनारा पा गया कोई।

भूख से हलकान है मजलूम तिरे आतिश-ए-शहर में
गुर्बत  में  हक  का  निवाला  भी  खा  गया  कोई ।

घरों में कैद है जिंदगी फिज़ाओं में पसरा है सन्नाटा
अकड़ना छोड़ दे अब, तेरी औकात बता गया कोई।

ख़ामोश हैं बुत तो तानकर चादर सो गया  खुदा भी
मंजर -ए -तबाही में अपना  ईमान दिखा गया कोई ।

यूं तो मोजूं है अर्श पे तिरे कदम-ए-मर्दुम-ए-कामिल
मगर दिखाकर रुतबा , तेरी हस्ती मिटा गया  कोई ।

वक्त-ए-अज़ल  पर  यह  कैसा  मंजर  है ए- खुदा
जिंदा आदमी  का गोश्त  जानवर  खा  गया कोई ।

टूटे हैं हौंसले मगर ख्वाहिशें जिंदा रख -ए-"योगी"
दहश़त- ए - दश्त़ में  भी रास्ता  दिखा गया  कोई l
Read More

"आजादी तु इतनी महंगी क्यों हैं "

आजादी की तलब सबको है, 
पर आजाद होना आसान नहीं।

 कीमत अनमोल हैं इस शब्द की, 
मिटानी पडती हैं अपनी मौजूदगी। 

गंवाना पडता हैं सब कुछ यहां 
पाने पर इसको, बचता कुछ भी नहीं।। 

तोड जंजीरे, काट बेड़िया 
चल ली मैं  भी तेरे संग यहां 

प्यार बहुत है तुझसे सबको 
त्याग तेरे लिए यहां आसान नहीं।। 

।। आजादी जिंदाबाद।।
Read More

किसान

माथे पे पगड़ी, गले मे गमझा और धोती पहनावा हो , जिसकी पहचान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

***** ***** ***** 
पौ फटते ही कंधो पे हल और साथ में हो बैल, जिसकी हो पहचान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

**** ***** *****
हाथों में हँसिया और ज्येष्ठ में गेहूं की बाली कटती, जिसकी हो  पहचान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

***** ***** ***** 
काम करते जिसके स्वर्ण रूपी पसीने से भीगे हो  परिधान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

***** ***** ***** 

गमझे में लपेटी रोटी, गुण और मट्ठा से खेतो में जो करता हो  जलपान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

***** ***** ****** 
आधे पाँव पानी में, भीगी हो धोती और जो रोप रहा हो धान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

***** ****** *****
जिसके हाथ सने हो भूसे,  खुदी,  पानी से नाद में और परोसे मवेशियों को खान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

***** ***** ****** 

जो पूरी भारत की अर्थव्यवस्था की हो जबरदस्त शान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

***** ***** *****
जो सुबह और सायं होते ही गाय -भैसों से दूध निकाले इंसान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

***** ***** ***** 

जो तन, मन और अन्न से सबको पोषित करता रहता हो और जिसके लिये सरकारे बनी रहे अनजान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll

***** ****** *****

भले ही वंचित  धन से पर जो भरा हो जीवन ऊर्जा से और हो निष्ठवान l
वो कोई और नहीं, बल्कि हैं अपना पूजनीय किसान ll
Read More

नया उजाला

कुछ ख्वाहिशें है दिल में,
अरमान भी बड़े है,
पाने को उनको ,
उस डगर पर चल पड़े है....

वक़्त कुछ लगेगा,
सब्र तो करना पड़ेगा,
राह ना होगी आसान,
पथरीले रास्तों पे चलना तो पड़ेगा.....

मिल जाएगी मंजिल ,
बस तू खुद को रुकने ना देना,
ठिठक भले ही जाए कदम,
पर उन्हें थमने ना देना...

फिर होगा वो उजाला ,
खुशियों के सूरज का ऐसा,
पा जाएगा वो मुकाम,
खुली आंखों से देखे ख्वाबों में देखा वैसा।
Read More

मेरी माँ

माँ तुमने अपने रक्त से नौ  महीने गर्भ मे सींचा l
तप जैसा रहा ये दिन तेरा,  फिर लौकिक संसार मे मुझे खींचा l

किये भरण -पोषण  तूने बहुत जतन से मेरा l
मैं, मैं ना रहा बस बनता गया छाया तेरे ll

कितनी श्रम करके पहले उंगलियों को पकड़कर चलना सिखाया l
लोचन मे लगे कीचड़ को अपने साड़ी के फॉल से साफ जो कराया ll

तेरे  हमेशा साथ रहने की इच्छा  मे, पीठ पर बिठाकर सिलवट पे मसाला भी पिसा l
फिर भी ऐसी कोई जिद नहीं जो तूने भी उसे भरपूर ना जिया ll


कभी अपने हिस्से का मीठा तो कभी आम देकर, मुछे अपना जीभ -रस भी दिया l
कभी हंसा तो पुलकित हो गयी, ज़ब रोया तो दिलासा भी दिया ll


मेले मे जाने के लिये तूने अपने हाथों से मुझे खुद ही सजाया - सवारा l
मेरा लाडला देखो हैं कितना हर्षक, ये पूरे मोहल्ले को पुकारा ll

तेरे हाथों को तवे पे जलते देखा हैंl
 फिर सरसों के तेल के साथ उन्ही को मलते देखा हैं  ll

माँ तूने बहुत ही दुःख झेले है l
पर कभी भी एक आह तेरे नहीं किसने देंगे है ll

माँ तेरी गोद तो सुनहला बिछौना हैं l
दुःख को हरने वाला और शांति देने वाला प्यारा खिलौना हैं ll


माँ तेरे बिना तो मेरा क्या,  सबका अस्तित्व ही सुना l
मैं तुझे हमेशा पुजू श्रदा से,  हैं मेरी यही  कामना ll
Read More

वो गांव और वो गलियां

वो गलियां जिसमे बचपन बीता l
वो गलियां जिसमे दोस्तों से जीना सीखा ll

वो गलियां जिसमे खपरैल के  घरों से गिरते बारिश के पानी से नहाया l
मौजों की टोली के साथ  उस दिन को यादो की बारात से सजाया ll

गांव की पगडंडिया थी और पुराने साईकिल की सवारी l
पीछे पीछे बच्चों की उन्मुक्त टोली और हमारी होशियारी ll

बुजुर्गो के स्थायी भाव और गोल घेरे मे हुक्का था l
 ये सब देख हम सारे बच्चों का दिल हक्का -बक्का था ll

चाची और बहनो का गोबर से सना हाथ था l
जगह -जगह गलियों की दीवारों पर उपलों का ठाठ था ll

जाड़े के दिनों मे गोल आग के घेरे मे छोटे से बड़ो का जमावड़ा था l
कभी किसी का हाथ सिक रहा था तो कभी पिछवाड़ा था ll

कभी किसी की बारात आयी तो सब बैठे गए पत्तल पे खाने l
कोई कहे पूड़ी और दही से तुझे अभी और हैं खाली पेट को आजमाने ll

गाँव और उसकी गलियां ही तो हमारी पहचान हैं l
हम भले कही बस जाये पर मूल मे तो यही हमारी  शान हैं ll
Read More

गीत

" गीत" - अवध में राम आए हैं

हर्षित है सारा ही संसार
अवध  में   राम  आए हैं
अवध   में  राम  आए हैं
मेरे     भगवान   आए हैं।

काटकर सदियों का वनवास 
पुन: .  सियाराम  .आए.  है ।

भरत  है  मिलने को आतुर
लखन संग हनुमान आए हैं ।

छवि  है  मनमोहन  वाली
सभी  के हिय में समाए है ।

सरयू  के  पावन  घाटों  ने
गीत   मंगल   के   गाए  हैं।

सजे हैं सारे घर और द्वार
देवों  ने  पुष्प  बरसाए  हैं ।

आज  मंदिर के मुहूर्त पर 
मोदी  संग  नाथ  आए  हैं।

उमंग में  नाच  रहे नर नार
प्रजा  ने   दीप   जलाए  हैं।
Read More

उठ जाग और अब चल

घोर निशा में निंद्रा सी छाई है,
कर्म रेखा इस तरह मुरझाई है |
चारों तरफ घोर अंधेरा, लगता !
यह तो निराशा की परछाई है ||

क्या मेरे दिन भी चले गए,
क्या किस्मत की अंगड़ाई है?
क्या मेरे दिल में जंग बहुत,
क्या मेरी ही लापरवाही है??

क्या मैं दौड़ा नहीं या दौड़ नहीं मैं पाया,
क्या मैं सोचा नहीं या सोच नहीं मैं पाया?
क्या मैं था दरिद्र या खुद को दरिद्र बनाया,
क्या मैं था असफल या खुद असफल बनाया??

दिन कहीं नहीं जाते, किस्मत नहीं है रुठी,
अंधेरा मिटेगा, निराशा हारेगी, थोड़ा लगा बल |
तेरी लापरवाही है, कर उठा, तब मिले फल |
उठ जाग और चल, गुजर रहा तेरा पल पल ||

तब तू दौड़ा नहीं, तब तू सोचा नहीं,
खुद को दरिद्र बनाया, असफल कहलाया |
है आगोश, कर खुद परविश्वास, तब होगा हल,
उठ जाग और चल, गुजर रहा तेरा पल पल ||

मेहनतकश लोगों ने किस्मत को भी नहीं माना,
जीत गए दुनिया सारी, प्रतिभा का नहीं बहाना |
कर शुरुआत आज ही, आएगा नहीं कभी कल,
उठ जाग और चल ,गुजर रहा तेरा पल पल ||
Read More

औसत इंसान

मत बन "औसत " इंसान अपने कर्मभूमि से l
नित लड़ अपने आप से, तू छोड़ आरामदेह दायरा अपने आसन्न से ll

***** ***** *****
मत बन "औसत "इंसान अपने जन्मभूमि से l
फहरा पताका सफलता का गगन के आलोक से ll

***** ***** *****

मत बन "औसत "इंसान अपने रंगभूमि से l
खिल उठ उत्तम कलाकार रूप मे और कर मंचन हर खुश दिल से ll

***** ***** ***** 

मत बन "औसत " शिष्य  अपने पुरुषार्थ से l
रेंग चींटी तरह पर सिद्ध कर अर्जुन के गांडीव की तरह से ll

***** ****** ******

मत बन "औसत "नियंता अपने हाव -भाव सेl 
कर सबको हत प्रभ अपने सहज़ बुद्धि के चाव से ll 

मत बन "औसत " माता -पिता अपने स्वाभाव से l
कर उत्कृष्ट  लालन -पालन अपने ही चातुर्य से ll

***** ***** *****

मत बन "औसत " सुत अपने ही कार्य से l
साबित हो श्रवण जैसा अपने ही पुण्डाय से ll

***** ***** *****
Read More

रक्षाबंधन दिवस

बहना ने भाई के कलाई मे दुलार बांधा हैं l
भाई ने बहना के लिए खुशी का संसार लाया हैं ll

***** ***** *****
बहना ने भाई से रक्षा का सौगात माँगा हैं l
भाई ने बहना के लिये प्राण त्यागा हैं ll

***** ***** *****
बहना ने भाई के लिये ईश से लम्बी उम्र का सौगात माँगा हैं l
भाई ने बहाना के लिये अपना जज़्बात त्यागा हैं ll

***** ***** *****
 बहना ने  भाई के लिये तरक्की का प्रभु से उपकार माँगा हैं l
भाई ने बहना के लिये अपना सारा खजाना न्योछावर करा हैं ll

***** ***** *****
बहना ने भाई से कुछ समय उधार माँगा हैं l
भाई ने बहना के लिये दिन अपना लुटाया हैं ll

***** ***** *****

"बस यू ही भाई -बहन और पूरे भारतवर्ष के जनवासी  अपने स्नेहिल, कृपालु ह्रदय से जीवन पर्यन्त एक दूसरे का खयाल रखते रहे और रक्षाबंधन दिवस  की सार्थकता युगो युगो तक सिद्ध करते रहे l

***** ***** *****
Read More

बहन के नाम भाई की पाती

तुम्हे  दुनियाँ  की सबसे खूबसुरत मै मानता हूँ , 
तुम   मे   ही   अक्श   माँ   का   मै  ढूंढता  हूँ  !

याद  आती  है  तेरी  बचपन  की  शैतानिया मुझे,
उस बिछुडे़ बचपन को अब भी दिल मे, मै संभालता हूँ !!

तू  पिटती   थी   माँ   से   और   रोता   मै  था,
अब भी तेरी चोटों पर मरहम की पट्टी मै बांधता हूँ  !!!

तुमसे ज्यादा कोई जान नही पाया मुझे अब तलक,
इसलिए हर  रक्षाबंधन पर तेरी  राखी मै बांधता हूँ !!!!

तू  रूंठने की  वो  आदत भूली नही है अब तलक,
मग़र अजीब़ है यह बंधन तुमसे हर बार मै हारता हूँ !!!!!

ग़र  कुछ  मतभेद  है  तो सुलझा लेंगे गले लगकर ,
आ जाओ रक्षाबंधन पर लो फिर माफी मै मांगता हूँ !!!!!!
Read More

जीवन कर्म युद्ध

रोज उठते हैं और निकल जाते अपने कर्मयुद्ध में l
चेतन और अवचेतन मन से लग जाते अपने हस्त सिद्ध में ll

***** ***** *****

नहीं लगाने देते आलस को  सेंध अपने तन मन में l
झोक देते है अपने को पूरे मनोयोग से समयचक्र में ll

***** ***** ***** 
मन में रहता हैं कुछ ऎसा सुन्दर, साहसी, दयालु खयाल l
एक से एक ग्यारह होते हैं और देश का मान बढ़ाते  हैं प्रतिपाल ll

***** ***** ***** 
करते समाज के विकास में सहभागिता लेकर सबको साथ l
चलते हैं अकेले पर मिलता जाता है सबका हाथों में हाथ ll

***** ***** *****

सभी को देना चाहिए अपने स्तर और सामर्थय से देश हित में योगदान l
तभी तो अपना देश बनेगा एक आदर्श देश और महान ll

***** ***** *****

फिर एक बार कहलायेगा हिन्द, सोने की चिड़िया l
और हरेक हिन्द जन के चेहरे पे होगी प्रशांत ख़ुशी की दुनिया ll

***** ***** *****
लोग करेंगे पडोसी और सगे सम्बन्धी की भी चिंता l
जो बन पड़ेगा वो करेंगे और ना करेंगे कभी निंदा ll
***** ***** *****
"स्नेहिल राज "
काँटी, मुजफ्फरपुर
Read More

संगिनी

तुझको देख के आता हैं करार l
मैं तुम्हारा और तुम हमार ll
चाहता हू तुम्हें बहुत और दिल से तुमको आभार l

सुनती हो तुम मुझे सादगी से और नहीं करती कभी प्रतिकार ll

हमेशा रहता हैं तुम्हारे आलिंगन का इंतज़ार l
तुम्हारे छूवन से ही पुलकित होता शरीर हजार  बार ll

तुम मुझे तहे दिल से करती हो स्वीकार l
यही तो वो बात है जिससे मुझे भी नहीं इनकार ll

तेरे काले घने केश और तुम्हारा श्रृंगार l
महसूस कराते ऐसे जैसे रजनीगंधा के  खुशबू की बहार ll

कपोल पर सजती लाली और सजल नयन मे दिखता प्यार l
मै भी तेरे सजदा करू और  खूब करू तुझसे प्यार l

मै भी तेरे सजदा करू और खूब करू तुझसे प्यार ll
Read More

सावन

सावन का मौसम लाता है खुशियाँ का  बहार और होता  रंगीला l
सजा होता है इंद्रधनुष के रंगों से और लगता सजीला ll
ज़ब चलती मस्त हवा और तरुओं की पत्तियाँ लहराती एकाकार  l
बादलो  के श्वेत स्निग्ध झुण्ड बहते, जैसे करते आपस मे हो बहुत प्यार ll
खेतो मे दिखते बहुत सारे हँसते और मुस्कराते कामगार l
सहज़ ही यह सबको महसूस कराते, हम ही है देश की  अर्थव्यवस्था के आधार ll
सावन मे पथिक पसीनो से तर बतर होकर भी रहता है  ऊर्जावान l
यही तो है सावन का कमाल जो सबको रखें दिल से नौजवान ll
लाता है सावन बहुत सारे मेले और तीज जैसा त्यौहार l
सभी देवर मस्ती करें अपने भौजाई से और लाये परिवार मे उमंग और बहार ll
सावन मे ही हरेक सोमवार का मान बढे और मंदिरो मे भीड़ लगे अम्बार l
नायिकाएं सजे धजे और रिझाये अपने प्रेमी को बारम्बार ll

सावन का मौसम लाता है खुशियाँ का  बहार और होता  रंगीला l
सजा होता है इंद्रधनुष के रंगों से और लगता सजीला ll
Read More

रह हमेशा तू जोश मे

ना सोच की क्या हो रहा, रह हमेशा तू जोश मे l
कर सबके हौसले बुलंद, और रह हमेशा होश मे ll
कर सुकर्म  निरंतर, पूरे मनोयोग  से l
जिससे सिद्ध हो जन्म सार्थक, इस लोक मे ll
आना जाना तो एक चक्र हैं l
पर सार्थक सिद्ध होना सबके लिये, एक फक्र हैं ll
सूरज नहीं बन पाए तो कोई बात नहीं l
दीपक बने जरूर, इसका रहे ध्यान हमें ll
जीते खुद और जिताये भीl
जिए खुद और जिलाये भी ll
मंजर बनाये अलौकिक सा l
जिसमे सब आनंदित हो सम्पूर्ण सा ll
दुखो के लिये सोख्ता बन जाये l
ख़ुशी के लिये बहार लाये ll
हर एक को करें अंगीकार l
विधाता ने भी कहा हैं, सबको करो स्वीकार ll
विधाता ने भी बोला हैं सबको करो स्वीकार ll
Read More

काली घटा का  नज़ारा

काली घटा का नज़ारा ,देखो देखते लगे प्यारा 
गर्मी से हुआ छुटकारा खिला तन बदन हमारा 

सूर्यदेव का खेल रचा था , इंद्रदेव  का जवाब करारा 
काली घटा का नज़ारा ,देखो देखते लगे प्यारा 

कोयल, मोर शोर मचाये ,गाये बुल बुल तराना  
काली घटा का नज़ारा , देखो देखते लगे प्यारा 

प्यासी धरती पी रही ,पेड़ो को मिला छूटकारा 
काली घटा का नज़ारा देखो देखते लगे प्यारा 

काली घटा का नज़ारा ,देखो देखते लगे प्यारा 
गर्मी से हुआ छुटकारा खिला तन बदन हमारा
Read More

अग्निकलम

मेरी आज है तुम्हे पुकारती,
उठो,जागो हे वीर धरा के भारती !

उठा  शस्त्र.......,
कर भक्षण ......
संभाल गांडीव.......,
कर  तांडव ......
रचा संग्राम. ......,
कर सर्वनाश........
रण की इस बेला मे,
स्वयं महाविनाशक है तेरा सारथी !
उठो ,जागो हे वीर धरा के भारती !!

जब पार हो जाऐ संयम की पराकाष्ठा,
रिपू के प्रहार से छिन्न-भिन्न हो हमारी आस्था ,
तब   शेष  नही  रहता  कोई  रा्स्ता,
स्वयं निर्णय करो ,त्यागो दिल्ली की दांस्ता,
अब छोड़ो धवल पौशाकों से वास्ता,
स्वयं भारती आज है तुम्हे पुकारती  
उठो, जागो हे वीर धरा के भारती  !!!

कब तक दूध पिलाओगे,
इन आस्तीन के सांपों को,
जिन्दा कब तक रखोगे,
इन दहशतगर्दों के पापों को,
वक्त आ गया है,
खत्म करो इन चंगेजों  के नागों को,
यह वीर प्रसूता धरणी है ,अन्धे राजपूत की शक्ति से,
दुश्मन   के   शीश  उतारती,
उठो, जागो हे वीर धरा के भारती !!!!

हे नृप नरेन्द्र अब तेरी चुप्पी,
खंजर  सी  चुभ  जाती है
जाग ,नही तो जनगंगा ,
खड़ग उठाकर लाती है,
इस वीर धरा के वीरों को,
कायरता कब  भाती है,
रण करो या मरण करो....,
रणभेरी की उतारो अब तुम आरती !!!!!
Read More

शिव

मै गिर कंद्रा में रहने वाला 
बंधन  मुझे  स्वीकार  नहीं
मै भष्म भभूत लगाने वाला
चंदन  मुझे   स्वीकार  नहीं ।

रूद्र भूत गणादि परिजन मेरे
गिर  वनवासी  है  स्वजन मेरे
मै   शमशानों  में  रहने  वाला
नंदन वन मुझे  स्वीकार  नहीं ।

सिंह  शावक  सब मेरे साथी
नंदी  नाग   मयूर  और  हाथी
मै   व्याघ्र  चर्म  पहनने  वाला
रेशमी वसन मुझे स्वीकार नहीं।

दिग    दिगंबर    सारा    मेरा
अवनि   अंबर   प्यारा    मेरा
मै कंकड़ पत्थर पर सोने वाला
कंचन   मुझे    स्वीकार    नहीं ।
Read More

बाबा नागार्जुन

निशा के मध्य प्रहर में
दरवाजे की घंटी बजी
किसी अनहोनी की आशंका में
धड़कन हृदय  की  बढ़ने  लगी
कंपकंपाते हाथों से जब 
खोला दरवाजे का कुंडा
तो सामने खड़ा था मेरे
कृषकाय काला सा बूढ़ा
लाठी का सहारा लिए
मुझे  वो  रैबारी  सा  लगा
क्षुधा  मिटाने निकला
असहाय भिखारी सा लगा
लंगोटी बांधे पर
 धड   था  नंगा
उभाने पैर कंधे पर था 
एक गमछा टंगा
धकियाते  मुझे  अन्दर  घुसा
बड़बड़ाते मुझे हड़काने लगा
क्या मखमली गद्दों पर
सोने  शहर  आए  थे
भूल गए तुमने भी 
बचपन में ढोर चराए थे
छप्पर की छान टप टप टपकती थी
ढह न जाएं मिट्टी की दीवारें कहीं
इस चिंता  में सारी  रात  गुजरती थी
भले ही पढ़ न पाई तेरी मातृजाया
पर तुम्हे तो पढ़ाया था
बेचकर   गहने   मां ने
मातृधर्म  निभाया  था
खानी पड़ी थी ठोकरें पिता को
भरने    तुम्हारा    उदर
चबाने पड़े  थे चने 
ताकि  जीवन जाए तेरा सुधर
भूल गया तू  गरीबी से 
तिल .. तिल ... मरता..  था
घुप्प अंधेरी रातों में
घासलेट के दीए से पढ़ता था
माना कि निज परिश्रम से
पाया... है .....तुमने.... यह.. . मुकाम
पर तू "मै" में समा गया
फिर कौन करेगा निर्धन वंचितों के काम
वातानुकूलित भवन में
तू बन गया मूढ़
लिखने लगा मादक 
तन की बातें गूढ़
मैंने ऊंची आवाज में पूछा
तुम हो कौन मुझे समझाने वाले
बिना बुलाए मेहमान बनके
मुझे मीठी  नींद से  जगाने वाले
प्रत्युतर में उसने झिड़काया
रे" ! मूर्ख मै हूं "बाबा"
बाबा..........
हां तुम्हारा बाबा
पर मेरे बाबा तो मर गए 
भवसागर  से    तर  गए
हां मै तन से बेशक मर गया
मगर जिंदा हूं किसान की भूखी आंतडियों में
श्रमिक   की   कुदाल    और   फावडियों  में
मेरा बचा हुआ काम अब तुम्हे करना है
लोकतंत्र में उग आए
जाती धर्म और क्षेत्रवाद को
जड़ ..से... खत्म... करना.. है 
फिर  लाठी   टेकते  टेकते  वो  चले  गए
गहरी कंदराओं में गिरने से मुझे बचा गए
कलम चलने  लगी 
होने   लगा   सृजन
भ्रम   मिटने   लगा
सुलझ गई उलझन
जगाने आए थे मुझे
स्वयं बाबा नागार्जुन ।
Read More

गुरु पूर्णिमा

जीवन चक्र के इन समस्त गुरुजनों के शुभाशिष के साथ 
गुरु पूर्णिमा की अनन्त शुभकामनाएं।

सफर- ए - जिंदगी में आलम यह है जनाब, 
कदम दर कदम देखा गुरुजनों का सैलाब। 

प्रथम गुरु बन माता ने निभाया अपना फर्ज,
ना उतार पाएंगे कभी पिता की सीख का कर्ज। 

विद्या के मंदिर में जा कर पाया हर तरह का ज्ञान,         
ऐसे शिक्षकगणों को करेंगे हम सदा यहां प्रणाम। 

 वक्त के बहाव में दिखे रिश्ते नाते दोस्त दुश्मन बड़े महान, 
 सीखा गए जीवन पथ की यथार्थता का वे ज्ञान विज्ञान। 

धरती माता ने भी क्या कम निभाया अपना धर्म,
 पालपौष के आंचल में हमको, सिखाया अपना कर्म 

कैसे कहूं गुरु एक है पल-पल देखा दूजा गुरु महान, 
 आखिर देखा चित्तवृत्ति में झांक के
 तो दिखा *आदि योगी* गुरु महान।
Read More

Girl just be the way you are!!

When people tell you
You are not beautiful, 
You should say
You are no less than fool, 
They say-you should change yourself
You think-why i can't be myself
Dear they came straight out of the bar, 
Girl just be the way you are

They do comments
On your dark skin, 
Telling you that
It's good to have a light tint, 
They say-put some cream on your face
You think I don't wanna be in this race
Tell them loud that you are happy with your scar, 
Girl just be the way you are

They tell you
Look at your fat, 
Keep judging you
You should keep your belly flat, 
They say-neighbour's daughter is so lean
You think-how can you be so mean
Believe me dear you are a superstar, 
Girl just be the way you are.
Read More

वक्त की कमी या समय का बहाना

सबके लिए सबको समय मिल जाता है 
आदमी जब चाहे तब एक मिनट मिल जाता है। 

नहीं होता कई बार इतना जरूरी कोई या कुछ
इसलिए समय का कुछ इस तरह अभाव हो जाता है। 

दस्तूर यह जमाने का क्यों जाया करें वक्त कोई अपना 
शिकायतों का भी इस तरह आजकल प्रभाव कम हो जाता है।
 
उम्मीदें फिर इस कदर हावी हुई दो बोल बतलाने की 
पर------भुलाने वाले को क्यों - कहां- कौन इतना याद आता है।

हकीकत जान के खुद आदमी कितना  सोच में पड़ जाता है 
क्यों करता है ऐसा वह, अपनी रूह से फिर बतलाता है।।
Read More

दादी मां

मां नहीं थी मेरे, दादी ने पाला मुझको 
लिख रही हूं दादी मां देके आज हवाला तुझको, 

बेटी थी मैं, बेटा सा मान, संभाला तुने
बंधन तोड़ समाज के आगे बढ़ाया तुने, 

बचपन में तेरी वो डॉट आज बहुत याद आती है
रुलाकर हंसाने की तेरी कला आज बहुत रुला जाती है, 

निकल जाती थी जब मैं खेलने सतोलिए लड़कों के संग, 
कहती थी तु अच्छे नहीं है लड़कियों के लिए यह ढंग 

कर जाती है आज तेरी वही बातें मुझे  फिर से तंग 
याद  बहुत  आती है तेरी मैया देख जमाने के  ये रंग

तब ना मानती थी मैं तेरी  ये सीख भरी बातें 
मुस्कुरा कर फिर तू टाल देती थी मेरी वो लड़कपन की शरारतें, 

 अपनों से लड़ लड़ के  तुने खूब पढ़ाया मुझको     
अच्छी से अच्छी शिक्षा दिला जीने के काबिल बनाया मुझको, 

तु तो थी अनपढ़, संस्कार दे गई नायाब  मुझको
पढ़ी-लिखी आज की "माताएँ "कैसे  हिसाब देंगी आज तुझको।
Read More

यादों का सिलसिला !

छाए थे बदरा
इंद्रप्रस्थ के आसमान में
हाथो में कंगन और
झुमका पहना था तुमने कान में
बैचैन सी टहल रही थी तुम
मेरे इंतज़ार में
तभी बारिश का झोंका आया 
और तुमने थाम लिया था 
हाथ मेरा , चूम लिया था
माथा मेरा उस बंद मकान में।

आज फिर चल पड़ा 
यादों का सिलसिला 
पुरवाइयों के संग
जब बरसती बूंदों में
रोम रोम में बस गई थी
तुम्हारी सांसो की गंध।

मगर मिलकर भी तुमसे
मिलन बाकी रहा
पिला न सका मय तुमको
मै कैसा साकी रहा 
समंदर में  मिलना 
दरिया की फितरत है
इक दिन बहा लूंगा 
तुझे अपनी मौजों के संग
मेरा ये वादा तुमसे
बाकी रहा
Read More

ज़िन्दगी से निराश ना होना

ना हो उदास, ना हो निराश,  सुन्दर हैं ये ज़िन्दगी l
यह जीवन हैं बहुत न्यारा, ये हैं ईश्वर की दी हुई बंदगीl

लाख आये बाधाएं. मत छोड़ो अपनी आस l
रखो धीर और करो अच्छा और करो अपने पे नाज l
हम सभी अपने आप मे है सबसे अलग और बहुत  हैं  खास l
इसलिए किसी भी परिस्थिति मे ना हो उदास l
ऐसी कोई समस्या नहीं जिसका  ना हो कोई उपाय l

बात करो दोस्तों से, और परिवार से,  मिल जायेगा समस्या का सदुपाय l
इससे भी कुछ ना बन पड़े तो करो अपना पसंदीदा एक काज l
फिर भी ना बने बात तो लौट आओ बचपन मे ही आज l
सभी से करता हु अनुनय, विनय, ना हो ज़िन्दगी मे कभी भी उदास l

जियो हमेशा जिंदादिली से और बनाये रखो मुख पर हमेशा मधुहास l
ना हो उदास, ना हो निराश,  सुन्दर हैं ये ज़िन्दगी l
यह जीवन हैं बहुत न्यारा, ये हैं ईश्वर की दी हुई बंदगीl

"स्नेहिल राज "
9.10.PM, 25.06.2020
काँटी, मुजफ्फरपुर 
बिहार
Read More

हां ,मै विद्रोही हूं

मै वामपंथी नहीं हूं
लेकिन लिखता रहूंगा
धन कुबेरों के खिलाफ
शोषण की प्राचीरों के खिलाफ।
मेरा लेखन जारी रहेगा 
सृष्टि में प्रलय होने तक
नवोदित कवियों के रूप में
गरीबों की भूख के लिए ।

मै विषधर नहीं हूं 
परंतु उगलता रहूंगा ज़हर
विश्व में व्याप्त ......
असमानता के खिलाफ 
घृणा द्वेष ईर्ष्या क्रोध
और मानवता के खिलाफ
जाति  धर्म ........
और नस्लवाद के खिलाफ
विश्व बंधुत्व के लिए  ।

मै नास्तिक नहीं हूं 
किन्तु  बना रहूंगा नास्तिक
देवताओं के खिलाफ
इशा मूषा पैगंबर के खिलाफ
पतित धर्मगुरुओं के खिलाफ
खुल न जाएं मंदिर के 
कपाट जब तलक 
सर्वजन सर्वहिताय के लिए ।

मै विद्रोही हूं
ठीक सुना आपने 
हां ,मै विद्रोही हूं
करता रहूंगा विद्रोह अनवरत
भय भूख भ्रष्टाचार के खिलाफ
दंभी निरंकुश सरकार के खिलाफ
ढोंगी लोभी मक्कार के  खिलाफ
साम्राज्यवादी शक्तियों के खिलाफ
पक्षपाती व्यवस्था  के  खिलाफ
अन्धविश्वास और कुप्रथाओं के खिलाफ
समानता और मानवता के लिए    ।

मै लड़ता रहूंगा सतत्
सरित गिर पहाड़ के लिए
आधी आबादी के अधिकार के लिए
मजबूर और लाचार के लिए
खाद्यान्न और आहार के लिए
पानी  और  पवन  के  लिए
जंगल  और   वन  के  लिए
निर्धन और बहुजन के लिए
छल  कपट  शमन  के  लिए
चिर स्थाई सर्वमंगल के लिए ...।
Read More

तु ढूंढती मुझको

तु ढूंढती मुझको, मैं ढूंढती तुझको 
हम दोनों मिलकर खोज लाते हैं चल आज उसको, 

तु समाई मुझमें, मैं समाई उस में 
राब्ता है  हमारा जिससे ,वह ठौर खोजता हैं  आज किसको,

 रोज देखती तु मुझको, रोज देखती मैं उसको
 सकूँ  दोनों का है ,जहाँ वो देखता किसको,

चैन तुझे भी नहीं, सकूँ  मुझे भी नहीं,
 गुफ्तगू कर हम बजम में पूछते हैं चल आज उसको

तु सोहबत है उसकी मैं मोहब्बत हू उसकी 
तु समझती हयात अपनी, मैं मानती रूहानियत उसको

बता तेरी रजा उसको, क्या सजा देगा वह मुझको
 शिद्दत से पाने की तलब हमारी 
 चुरा ना ले रब.... कहीं उसको
"रूह और मेरी परछाई"
Read More

आँखे  

दिल से दिल मिलती है ये प्यारी आँखे  
कभी दुश्मन को दोस्त बनाती है ये आँखे। 
सबको अपनी उँगलियों पर नचाती  है  ये आँखे ,
खुद की नज़र में गिराती  और उठाती  है  आँखे। 

कभी दिल की जुबान बन प्यार जताती है आँखे  
गम और खुशी  में आँशु  बहाती है आँखे । 
अंधकार से सदा हमें बचाती हैं आँखे  
ईश्वर का एहसास कराती हैं आँखे । 

न जाने रोज कितनी सारी खुशियां दे जाती हैं आँखे  ,
पैदा होते ही खुलती हैं आंखें और संसार से विदा होते ही ,
 बंद हो जाती है हमारी यह प्यारी आँखे ,
सचमुच ईश्वर का सबसे सुंदर उपहार आँखे ,
 नमन उस प्रभु का जिसने हमें दिए प्यारी आँखे ।
Read More

माँ के लाल

भेजा अपने लालो को सरहद पे दुश्मनों  को मिटाने को 1
ललकारा उनको कहा ओजस्वी वाणी से,  वीरता अपनी दिखाने को l
बोला हुंकार भर के आज अब तेरी बारी हैं l
भारत माँ की रक्षा के लिये दूध की  कीमत आज तुझे  चुकानी हैं l
लड़ना तुम डट के सीमा पे और  भय से ना घबराना l
एक, दो,  चार नहीं कम से कम सौ दुश्मन मार के आना l
ना सोचना घर परिवार के बारे में, ये देश हमारा हैं l
इसी मिट्टी में पले बड़े हम, ये हमें जा से भी प्यारा हैं l
लगाना पढ़े जा की बाजी, तो भी तुम ना पीछे हटना l
किसी भी कीमत पे, शत्रुऑ के  तुम दाँत खट्टे करना l
अगर वीरगति को प्राप्त हुए तो भी ना होंगी आंखे मेरी  नम l
मै ही नहीं पूरी देश की माताए करेंगी तुझे शत शत नमन l
मै ही नहीं पूरी देश की माताए करेंगी तुझे शत शत नमन l
"स्नेहिल राज "
उप महाप्रबंधक -NTPC 
काँटी, मुजफ्फरपुर 
बिहार
Read More

हर उठती लहर को किनारा मिलता नहीं

ए पथिक ना फेंक पत्थर
मेरे दिल के समंदर में
क्योंकि हर उठती लहर को किनारा मिलता नहीं
हर अंधेरे चाँद को सितारा मिलता नहीं

दर्द इतने छुपाए सीने में
कि मेरी मुस्कुराहट भी एक दर्द नज़र आएगी
अंधेरे मे खड़ा हूँ इस कदर
कि मेरी परछाई भी मेरे साथ ना चल पाएगी
दूसरों के ज़ख़्म मिटाने के लिए ज़ख़्मी हुए
क्या ये बहती हवा मेरे ज़ख़्म सहलाएगी
ज़िंदगी से हुए खफा
क्यों इशारा मौत का मिलता नहीं
क्योंकि हर उठती लहर को किनारा मिलता नहीं
हर अंधेरे चाँद को सितारा मिलता नहीं

प्यार की धुंधली रातों में
कुछ इस तरह हम खो गये
किन हाथों से हम धुन्ध हटाएँ
जब खुद ही धुन्ध हम हो गये
हवा बन साथ मेरे
कुछ इस तरह वो रहती है
बाहों मे ना भर सकूँ
पर सांसो मे वो रहती है
पर इस अधूरे अहसास से
दिल को सुकून मिलता नहीं
क्योंकि हर उठती लहर को किनारा मिलता नहीं
हर अंधेरे चाँद को सितारा मिलता नहीं

आँख छलकती गागर हुई
दिल समंदर हो गया
एक क्षितिज सा ख्वाब देखा
जो अधूरा रह गया
दिल के आलम दर्द बन
कब आँख तक भी आ गये
जो ना शब्द मेरे कह सके
वो मेरे आँसू कह गये
पर हर टपकती बूँद को
सहारा सीप का मिलता नहीं
क्योंकि हर उठती लहर को किनारा मिलता नहीं
हर अंधेरे चाँद को सितारा मिलता नहीं
Read More

ऐसी अपनी चाह

मुश्किल का मंजर है  ये , 
    कांटो भरी है  राह ,
    जीत जायेंगे एक दिन
    ऐसी अपनी चाह।

           समुद्र  का भंवर है ये,
          चुनोतियो  की राह ,
          जीत जायेंगे एक दिन
          ऐसी अपनी चाह।

               ताकतवर बहुत ह ये 
               उठा ली हमने बाँह ,
               जीत जायेंगे एक दिन
               ऐसी अपनी चाह।

                     मुश्किल का मंजर है  ये , 
                     कांटो भरी है  राह ,
                     जीत जायेंगे एक दिन
                     ऐसी अपनी चाह।
Read More

जीवन धारा

जब शुरू हुई ये ज़िंदगी
माँ की गोद थी हर खुशी
रो कर कह देता था मुश्किल
ढक देती थी मुझ पर आँचल
जब मैने धरती पर पाँव रखा
पापा ने मुझे संभाल लिया
कंधे पर बैठा कर दुनिया दिखला दी
कहने से पहले हर ख्वाहिश पूरी की
भाई के साथ जब कदम बढ़ाया
अच्‍छे बुरे का फर्क समझाया
भाभी ने आकर यादें सॅंजो दी
घर के आँगन को नई कली दी
बहनो की चिकचिक उनका दुलार
भर देता है आँखे उनका वो प्यार
बहते मंझधार में दोस्त मिले
हर अच्छे बुरे में साथ चले
अपनों से दूर यहाँ आया हूँ
एक पल भी ना जी पाया हूँ
बार बार छलक जाती है आँखे
कर लेता हूँ इन से भी बातें
जगती रातों से पूछा तो
कहा, तेरी आँखे देख ना सोई हूँ
बहती आँखो से पूछा तो
कहा, तेरे दिल को देख कर रोई हूँ
बहती आँखो, जगती रातों ने
खुदा के दिल को यूँ सेज़ा
अपनों की कमी ना खले मुझे
इसलिए दोस्तों को भेजा
Read More

नेचर ये तेरा कैसा नेचर

रूप रंग कैसा है तेरा 
समझ ना पाया इसको कोई। 
नेचर ये तेरा कैसा नेचर
माया इसकी जान न पाया कोई।। 

बन पेड़ यहां शीतल सी छांव
नीचे तु बिठलाता। 
ना बदले मे कुछ कभी औरो से मांग करवाता। 
सेवा सा भाव देकर ना  खुद पे तु इठलाता। 
अपना पराया ना भेद कर प्रीत जगत को तु सिखलाता।। 

कभी तू बन जानवर शिकार खुब कराता। 
दर्द पीर खुद को देकर गैरों का न दिल दुखाता। 
जंगल भी तुझसे मंगलभी तुझसे
इस जीव जगत को प्रेम की राह दिखाता।। 

फिर तू बनता एक बुद्धिमान प्राणी
अकड़ बहुत अपनी  तु यहां दिखलाता।। 
इंसानियत के नाम पे कैसी 
हैवानियत तु यहां दर्शाता।। 

नेचर भी अफसोस है करता होगा
अपनी ही कृति प़ें शर्माता होगा
रो रो कर अपने अश्रु किसको दिखाता होगा।। 
लेकिन
कोरोना के रूप में फिर तुने सबक दिया
भरी हुई महफ़िल को 
किस तरह वीरान किया। 
समझा मानव को तूने सब आज यहां
चिरकाली 
Read More

कहानी कोरोना काल की

तुम्हें सुनाओ कहानी कोरोना काल की, प्रकृति के रूद्र रूप विकराल की।। 

उठी चिंगारी परे देश  से आग लगाई जिसने पूरी दुनिया के 
शुरुआत हुई जब इसकी समझ ना  आइ तब ये दुनिया के 
बिछ गए चारो ओर लासो के ढेर जब आदम जाति के 
तब आये ना कोई इसे बचाने उसके ही स्वजाति के 
सुनो कहानी ये लोकडाउन संग जनता के
 ढाल  की
प्रकृति के रूद्र रूप विकराल कीll1ll

बड़े-बड़े हुक्मरान जब घबराए देख सच को भोकलाए
 ना दवा कहीं ना दुआ कहीं मंदिर मस्जिद सब बंद करवाएं 
देख विधना का खेल अजीब प्रकृति खूब मुस्कुराए
 कैद मानव को देख हर जगह पशु-पक्षी भी फस्फुसाए
 सुनो कहानी यह मानव सत्ता के सवाल की
 प्रकृति के रूद्र रूप विकराल की।। 2ll

 मौत के मौसम में धरती मां ने भी क्या कहर  ढाहाया 
मचा कोहराम चारों तरफ रोटी रोटी को तरसाया
देख विधि की ऐसी कयामत हर कोई दहलाया
बालक बूढ़ों तक ना इससे यहां कोई बच पाया
बात सुनो अब उस अदृश्य कोरोना के कमाल की 
प्रकृति के रूद्र रूप विकराल की।। 3।।

दिन रात लगे योद्धाओं ने जगं जीत की ठानी
विकट घङी मे जन-जन को देते वे दाना पानी 
देख नियति का खेल विज्ञान ने यह बात मानी
छोड़ दे प्रकृति से छेड़छाड़ गर तुझे हैं जान बचानी 
कैसी कहानी ये  2020 के साल की 
प्रकृति के रूद्र रूप विकराल की।। 4।।

घर बैठे शहजादो ने देखी मजदूरों की मजबूरी
सृजन करता ये जिस भारत के, उनकी देखो कैसी ये लाचारी 
नंगे पैर नाप धरा को दिखाई उन्होंने सदाचारी 
रोते बिलखते खून से लिखी उन्होंने हुक्मरानों की कदाचारी
सुनो जबानी उन मजदूरों की लंबी चाल की
प्रकृति के रूद्र रूप विकराल की।। 5।।

गजब कर दिया कोरोना ने, इंसानियत उसने सिखलायी
बदल दिया विश्व वृक्ष को ऎसी आन्धी चलायी
गिर गये बाहुबली सब अर्थव्यवस्था ऎसी चरमरायी
बना दिया माहोल अब ऐसा होगी फिर से यहां लडायी
सुनो कहानी अब इन देशों के कदम  ताल की
प्रकृति के रूद्र रूप विकराल की।।6।।

 सुनो कहानी धरती के इस सर्वमान्य ख्याल की। प्रकृति के विनाश काल महाकाल कीll
Read More

लॉक डाउन

२१ दिन लॉक डाउन
सड़के पड़ी है खाली !
मेरे ड्यूटी जाने से ,
डर रही  घर वाली  !!

      बिजली हमें बनानी है,
      रुकना नहीं है घर पर!
      बेटा निकला NTPC  ड्यूटी,
      पापा रास्ता देखे दिन भर!!

बीटा पूछे कोरोना, 
अपने हर सवाल मे !
कोरोना तो फ़ैल रहा ,
प्लांट चले हर हाल में!!

     ३० दिवाली देख चूका,
     अब मौत का आगास है!
     इस कोरोना के आतंक से,
   डर रही धरा व आकाश है !!
Read More

Stories


The Blackbox - A inspirational story

A good consultant, have to be a good story-teller. I feel you become a storyteller when you start making your own stories, so that you can explain the point of view in better way. I started writing stories while practicing storytelling and found that story writing is so powerful and it helps bring our imagination into reality. Here I am sharing a story of the BlackBox, a character that inspire me the most, and will inspire you too.

Let’s start the story with my friend Sreedhar, the youngest and a pampered kid from childhood, grew up in the small town of Uttarakhand (India). He was considered the brightest child in his school, and managed to get into the premier engineering institute of India for graduation.

Sreedhar and I used to enjoy attending English lectures in standing positions if not thrown out of the class. This brought us closer, and he always gave me pride that my English is better than at least one person. The brightest kid of school time was somehow lost in college. He generally kept quiet, and year on year was accumulating courses to be cleared. He used to bunk most of the classes but was famous for two things. One was smoking, he had wrapped walls of his hostel room with stacks of cigarette boxes, and the second is black screen shell programming in Unix.

He painted the room black, and most of the time we saw his lips sucking cigarettes and his fingers dancing on the keyboard. Everyone else from the computer branch was called Box (“Dabba” in Hindi) but he got the title BlackBox, who was always in search to solve the mystery of college computer networks, specially when our hostel network crashed. Just like BlackBox in aircraft keeps the record of all the flight data that is useful in troubleshooting emergencies.

Final year came, and most of us were busy preparing for campus interviews or celebrating selections, while few still had courage to go for higher studies. He was in none of them.

He used to tell me “I do things that add value to me”.
I was not sure of the value but I was sure that the number of subjects he had accumulated to clear will keep him busy for next few years. The final year passed away so quickly, we landed up in the corporate world, and left the Blackbox in his own created lost world, a black room full of cigarettes, cables and a PC.

Two years later, we got together on convocation, the blackbox was still there, playing with cables and the camera’s placed in the convocation hall. It was nothing less than magic to see him controlling all the cameras from his room at that time. He smiled after looking at my degree and said I will not find him there. He was indicating that he wasn’t there for this piece of paper. 

I did not give much attention then and left college as a proud engineer. Years passed on, we all settled in our daily life, trying to face every problem of life in the name of agility and transformation. I was at one of the biggest conferences in the Java world in the US, to present how we can automate Java migrations (a hot topic in those days). I was excited for my first talk on such a big platform but 5 minutes before the start I realized some hiccups in the network between my standard laptop and some advanced Audio/Visual system from some BeeBee company.

Unknowingly I said “Where is the BlackBox?”, a fellow next to me given some surprising look. I was thinking about the BlackBox at that moment who used to help us in such situations. A minute later, a person wearing a BeeBee T-shirt came to me asking my consent to apply a patch on my PC from their handheld device, and I had no reason to say no. It was magic, the issue is fixed before I could raise it. The BeeBee person handed me a card. I noticed that BeeBee logo was all over, from entry, id-cards, stalls/showcases, exits, and all was automated. I turned the card and I see BeeBee means “BlackBox”.

Quickly I finished my talks, started searching on yahoo! (popular search engine at that time) about BeeBee, and come to know that it is a company that produces and manages advanced A/V systems for large-scale events. I noticed a person called me from behind, holding a BeeBee tracker, I turned and guess what! I found the BlackBox again, founder of BeeBee Mr. Sridhar Kodian, holding 50 patents in the area of network and wireless communication.

And, I understood what he meant when he used to say “He does the thing that adds value”.

https://thinkuldeep.com/post/story-blackbox/
Read More
-*-*-*-

जुबानी घाव

पहला जुबानी बाण
एक सहेली दूसरी सहेली से-  तुम्हारे बच्चा होने की खुशी में तुम्हारे पति ने तुम्हें क्या तोहफा दिया ?

सहेली ने कहा - कुछ भी नहीं!

 बस फिर क्या था , सहेली के दो प्रश्न और उसने सवाल करते हुए पूछा कि क्या ये अच्छी बात है ? 
क्या उस की नज़र में तुम्हारी कोई कीमत नहीं ?

लफ्ज़ों का ये ज़हरीला बम गिरा कर वह सहेली दूसरी सहेली को अपनी फिक्र में छोड़कर चलती बनी।।

थोड़ी देर बाद शाम के वक्त उसका पति घर आया और पत्नी का मुंह लटका हुआ पाया।। 
फिर दोनों में झगड़ा हुआ।।
मारपीट हुई, और आखिर पति पत्नी में तलाक हो गया।।

जानते हैं प्रॉब्लम की शुरुआत कहां से हुई ? उस फिजूल जुमले से जो उसका हालचाल जानने आई सहेली ने कहा था।।

दूसरा जुबानी बाण
रवि ने अपने जिगरी दोस्त आकाश से पूछा:- तुम कहां काम करते हो?
आकाश- मारुति के शोरूम में।। रवि- कितनी तनख्वाह देता है मालिक?
आकाश-18 हजार।।
रवि-18000 रुपये बस, तुम्हारी जिंदगी कैसे कटती है इतने पैसों में ?
आकाश- (गहरी सांस खींचते हुए)- बस यार क्या बताऊं।।

मीटिंग खत्म हुई, कुछ दिनों के बाद आकाश अब अपने काम से बेरूखा हो गया।। और तनख्वाह बढ़ाने की डिमांड कर दी।। जिसे मालिक ने रद्द कर दिया।। आकाश ने जॉब छोड़ दी और बेरोजगार हो गया।। पहले उसके पास काम था अब काम नहीं रहा।।

तीसरा जुबानी बाण
एक साहब ने एक शख्स से कहा जो अपने बेटे से अलग रहता था।। तुम्हारा बेटा तुमसे बहुत कम मिलने आता है।। क्या उसे तुमसे मोहब्बत नहीं रही? बाप ने कहा बेटा ज्यादा व्यस्त रहता है, उसका काम का शेड्यूल बहुत सख्त है।। उसके बीवी बच्चे हैं, उसे बहुत कम वक्त मिलता है।।

पहला आदमी बोला- वाह!! यह क्या बात हुई, तुमने उसे पाला-पोसा उसकी हर ख्वाहिश पूरी की, अब उसको बुढ़ापे में व्यस्तता की वजह से मिलने का वक्त नहीं मिलता है।। तो यह ना मिलने का बहाना है।।

इस बातचीत के बाद बाप के दिल में बेटे के प्रति शंका पैदा हो गई।। बेटा जब भी मिलने आता वो ये ही सोचता रहता कि उसके पास सबके लिए वक्त है सिवाय मेरे।।

याद रखिए जुबान से निकले शब्द दूसरे पर बड़ा गहरा असर डाल देते हैं।। बेशक कुछ लोगों की जुबानों से शैतानी बोल निकलते हैं।। हमारी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में बहुत से सवाल हमें बहुत मासूम लगते हैं।।

जैसे-
तुमने यह क्यों नहीं खरीदा।।
तुम्हारे पास यह क्यों नहीं है।।
तुम इस शख्स के साथ पूरी जिंदगी कैसे चल सकती हो।।
Read More
-*-*-*-

मंत्रों की शक्ति या आयुर्वेद का चमत्कार

सत्य घटना
बात करीब दस बारह वर्ष पुरानी है।गर्मियों का समय था ।एक जीप कालबा बस स्टॉप पर आकर पानी पीने के लिए रुकी । जीप में तीन व्यक्ति और एक 16-17 वर्षीय लड़का अधमरा लेटा हुआ था ।गांव के एक व्यक्ति ने जिज्ञासावश पूछ लिया भाई बच्चे को क्या हो गया। तो उनमें से एक व्यक्ति जिसकी आंखे रोने के कारण सुजी हुई थी ,ने कहा भाई ये मेरा बेटा है इसको खेत में काले सांप ने काट लिया ।परसो हम इसको एसएमएस अस्पताल जयपुर लेकर गए थे लेकिन डाक्टरों ने जवाब दे दिया है अब जवान बेटे को मरते हुए देखने के अलावा हमारे पास कोई विकल्प नहीं है।
गांव के व्यक्ति ने उसे एक बार मेरे दादा जी श्री रघुवीर योगी से मिलने का सुझाव दिया और उसको आश्वस्त किया कि वो इसे ठीक कर देंगे ।हमारे गांव में सांप काटे का वही उपचार करते है । बच्चे के पिता जी को विश्वास नहीं हुआ परन्तु मरता क्या ना करता ।उसने जीप का मुंह हमारे गांव की तरफ कर दिया और हमारे घर आकर रुके । दादा जी ने बच्चे की नाडी देखकर कहा कि जहर समस्त शरीर में फैल चुका है परन्तु कोशिश करते हैं ।
आप अपने गांव किशनपुरा चलो मै पीछे पीछे अपने गारड़ी ( सांप का झाड़ा लगाने वाले) लेकर आता हूं । 
खैर बाबा ने बिना देर किए बच्चे के गांव पहुंचकर उपचार शुरू किया । मंत्रो के साथ साथ आयुर्वेद दवा दी और बच्चा तीन दिन में बिलकुल स्वस्थ हो गया ।
जिस बच्चे के इलाज के लिए बड़े हॉस्पिटल ने हाथ खड़े कर दिए उसका इलाज मेरे दादा जी ने आयुर्वेद की शक्ति से ठीक कर दिया ।
कुछ लोग इसे अंधविश्वास कह सकते हैं मै भी ऐसा ही मानता था ।एक दिन मैंने दादा जी से कहा बाबा ये जो आप सांप झाड़ते हो क्या सच में ही मंत्रो से जहर उत्तर जाता है ।तब वो बोले बेटा जहर तो मै जो ये काली पाड, बांझ काकेडा, और काली मिर्च देशी घी देता हूं उससे भी कम हो जाता है परन्तु मंत्र मरीज पर मनोवैज्ञानिक असर करते हैं ।रोगी का भय दूर करते हैं । उनकी बात से सहमत होकर मैंने सारे मंत्र एक नोट बुक में लिख लिए ।
ये कोई कहानी नहीं है अपितु वास्तविकता है । कोई भी व्यक्ति मेरे गांव में आकर तसल्ली कर सकता है। अब दादा जी तो नहीं रहे परन्तु उनके सिखाए कुछ नुक्से मेरे पास भी हैं। जिनमे स्वेत्त प्रदर और पैरदारी का शत प्रतिशत इलाज मै तीन खुराकों में कर सकता हूं ।
 
               जय आर्यवर्त । जय आयुर्वेद ।
Read More
-*-*-*-

पिता की जंग

खर्चा बहुत ज्यादा था और दुकान जवाब दे रही थी | जिस दुकान पर रोज ₹2000 की बचत होती थी,  वह दुकान  अब ₹200 की बचत भी नहीं दे पा रही थी |  बड़ी कंपनियां हमेशा छोटे दुकानदारों का नुकसान तो करती ही है,  पर एक सब्जी वाले का घर इस तरह से मदर डेयरी बर्बाद कर देगी यह सब्जी वाले ने सोचा नहीं होगा | 
 जब दो बेटे इंजीनियरिंग कर रहे हो और उस समय दुकान भी बंद हो जाए तब उस पिता पर क्या बीत रही होगी, इसका अंदाजा लगाना भी मुश्किल है | घर का खर्च कैसे चल रहा था, और इंजीनियरिंग की फीस के पैसे कैसे भेजे जा  रहे थे यह वह पिता ही जानता था |  लेकिन इस पिता ने मुश्किल से मुश्किल परिस्थिति में भी कभी हार नहीं मानी,  वह आज इस मदर डेरी से कैसे हार मान सकता था ,  और इस हार पर तो उसके बच्चों का पूरा भविष्य टिका हुआ था  | 
क्या सही है और क्या गलत  ! यह सोचे बिना , यह सब्जी वाला अपनी 25 साल पुरानी रेडी से एक पक्की दुकान वाले मदर डेयरी से कंपटीशन करने चल पड़ा | 

वह रोज सुबह जाकर मदर डेयरी के बोर्ड पर लिखे हुए भाव पढ़कर तो आता था, लेकिन वह खुद तो मंडी से भी इतना सस्ता सामान नहीं ला पा रहा था | 
अब उसके पास एक ही रास्ता बचा था ,वह था, आजादपुर मंडी से सब्जियाँ लाना |
55 साल की उम्र में वह मंडी जो कि 40 किलोमीटर दूर थी, जाना बहुत मुश्किल तो था, लेकिन विडंबना यह थी कि नहीं जाने से, मदर डेयरी के भाव पर सब्जी बेचना लगभग असंभव था | 

एक पिता ने 10 साल पहले छोड़ चुके अपने काम को फिर से शुरू किया , रात में 11:00 बजे सोने के बावजूद 2:00 बजे वापस उठकर आजादपुर मंडी जाने लगा |  अपने 25 साल के तजुर्बे का पूरा फायदा उठाया और कुछ ही  दिन में वह मदर डेयरी से सस्ते भाव में सब्जियां बेचने लगा | 

1 महीने की कमाई उसने वापस उसी दुकान में लगाई और नया इलेक्ट्रॉनिक कांटा खरीदा, एक मोबाइल खरीदा और पंपलेट भी छपवाए | 

फ्री होम डिलीवरी के साथ एक नई शुरुआत की और देखते ही देखते 1 दिन की बिक्री  7000 पर पहुंच गयी | लेकिन तभी मदर डेरी वाले एक नया दांव खेला और रेट बिल्कुल कम कर दिए | 
वह रेट तो कम कर सकता था लेकिन 25 साल का तजुर्बा कहां से लाता,  मदर डेरी वाला  बंसी सब्जी वाले  जैसी  क्वालिटी नहीं दे पाया  और धीरे-धीरे बंसी सब्जी वाले की दुकान ने रफ्तार पकड़ना शुरू किया और लोग लाइन में लगकर सब्जी खरीदने लगे सिर्फ 6 महीने की मेहनत में ही उस सब्जी वाले ने अपनी जंग जीत ली मदर डेयरी वाले ने अपनी दुकान वहां से ले जाकर दूसरी जगह लगा दी| 

हम अक्सर एक छोटी छोटी परेशानी से डर कर भाग जाते हैं और प्रयास करना ही छोड़ देते हैं बिना लड़े ही हार जाते हैं पर क्या बंसी बिना लड़े हार जाता तो अपनी दुकान को कभी चला पाता क्या ? उसके बेटे इंजीनियर बन पाते ?

यह कहानी विद्यार्थियों के लिए ऐसे कई सवाल छोड़ जाती है | 
क्या हम अपनी पूरी मेहनत कर रहे हैं ? क्या हम अपने लक्ष्य पाने की चेष्टा पूरी तरह से कर रहे हैं ?क्या हम कोई बहाना तो नहीं बना रहे ? क्या हम खुद को धोखा नहीं दे रहे?

इन सभी सवालों के जवाब यदि हम सच्चे मन से खुद को दें तो हमें सफल होने से कोई रोक नहीं सकता है........
Read More
-*-*-*-

कागजी टंकी

सरपंच साहब ! ओ..... सरपंच साहब! 
छगन सरपंच साहब के बड़े से मकान के बाहर खड़ा होकर आवाज लगा रहा था कई बार आवाज लगाने के बाद ऊपर बालकनी से एक जवाब मिला, 
"सरपंच साहब तो नहीं है, 2 दिन से कहीं गए हुए हैं,सोमवार को आएंगे तब आना|"
सोमवार को जब  छगन सरपंच के घर पहुचा तब सरपंच साहब बाहर चबूतरे पर बैठकर हुक्का पी रहे थे l

आओ भाई छगन, कैसे आना हुआ - सरपंच ने हुक्के का एक कश पीते हुए कहा |

सरपंच साहब मैं 3 दिन पहले भी आया था, तब सरपंचानी जी ने बोला कि आप कहीं गए हुए हैं|

अरे मैं अपनी बेटी के यहां गया था, समधी जी की तबीयत थोड़ी ठीक नहीं थी, कल शाम को ही आया हूं|

 यह सब छोड़ो...तुम बताओ, कैसे आना हुआ, सरपंच में हुक्का छगन के हाथ में पकड़ आते हुए कहा|

साहब मेरे घर के पास जो हैंडपंप है ना, उसका पानी ऐसे ही बहता रहता है और मेरे घर के सामने आकर भर जाता है, उसमें बहुत बदबू  आती है और खूब सारे मच्छर भी हो रखे हैं|

समस्या तो तुम्हारी जायज है,  बताओ मैं कैसे सहायता कर सकता हूं , तुम ही बताओ क्या करवाना है  मैं तो तुम्हारी सेवा के लिए ही हूं | जो बोलोगे, करवा दूंगा|

एक गड्ढा करवा दीजिए ,ढकवा दीजिए, पानी सारा उसी में चला जाएगा|

ठीक है छगन करवा देते हैं ,अपने यहां के वार्ड पंच से एक एप्लीकेशन लिखवा कर ले आओ|

अगले दिन सुबह उठते ही छगन वार्ड पंच के यहां पहुंच गया, 
वार्ड पंच ने मौके का मुआयना किया और एक एप्लीकेशन लिखा | उसने लिखा कि यहां पर एक पक्की टंकी की जरूरत है जो नीचे से खुली होगी  जिससे पानी रिस कर नीचे चला जाएगा |

छगन को बोला- छगन यहां पर पक्की टंकी बनाते हैं, कच्ची टंकी तो बहुत जल्दी टूट जाएगी|

पर देख सरकारी काम है थोड़ा टाइम लगेगा, पर हो जाएगा|
 यह एप्लीकेशन लेकर कल तू सचिव साहब के पास चले जाना वह इसका एक एस्टीमेट बना देंगे और सरपंच साहब के साइन से पैसा पास हो जाएगा|
छगन बहुत खुश हो गया और अपने वार्ड पंच को बहुत-बहुत धन्यवाद दिया 
अगले दिन तड़के ही छगन सचिव साहब के घर चला गया |
सचिव साहब ने एप्लीकेशन देखते ही छगन को बोला -छगन भाई टंकी निर्माण का काम तो पूरे खत्म हो चुके है अब तो अगले साल में ही आपकी ये टंकी बन पाएगी|
छगन की आशा पूरी टूट गई,  दुखी  मन से- सचिव जी कुछ हो नहीं सकता टंकी तो अभी बनानी है|
देख भाई छगन काम हो तो सकता है  कुछ खर्चा करना पड़ेगा, ₹500 लगेंगे|
छगन ने सोचा कि बच्चे एक बार बीमार होते हैं तो हजार डेढ़ हजार ऐसे ही खर्च हो जाते हैं तो इनको ₹500 देने पर भी फायदा ही है और उसने हां कर दी|
सचिव ने ₹9000 का एक एस्टीमेट बनाकर छगन को थमा दिया और बोला कि सरपंच साहब के साइन करा कर इसको पंचायत समिति में दे देना|
अगले दिन छगन सरपंच  के पास पहुंचा, सरपंच साहब ने जाते ही उस एस्टीमेट पर साइन कर दिए और छगन ने सारे कागजात पंचायत समिति में जमा करा दिए|
करीब 1 महीने बाद एक बूढ़ा मजदुर अपने हाथ में एक कुदाली लेकर छगन को ढूंढता हुआ गांव में आया|
और छगन के बताए हुए जगह पर गड्ढा खोदने लगा,   3x3 का गड्ढा खोदने में पूरे 8 घंटे के लिए,  और शाम तक गड्ढा तैयार हो गया|
जाते हुए मजदूर बोला इसमें कनेक्शन तभी करना जब इसका का ढक्कन आ जाए|
10 दिन तक इंतजार करने के बाद भी जब कोई चुनाई करने वाला और ढक्कन लगाने वाला नहीं आया तो छगन फिर से सरपंच साहब के पास गया|
सरपंच साहब ने इस बार भी उसको सीधे सचिव के पास भेज दिया,  छगन अब परेशान हो चुका था उसने सचिव को बोला कि डेढ़ महीना हो गया, कोई भी निर्माण कार्य नहीं चल रहा हैl कब तक बनेगी टंकी? 
सचिव ने समझाते हुए,  टंकी तो बन गई बस अब उसमें ढक्कन लगाना बाकी है ,कल परसो तक लगवा देता हूं|
करीब 20 दिन बाद ट्रैक्टर ट्रॉली में बड़ा सा सीमेंट का ढक्कन लेकर कुछ मजदूर आए|
लेकिन उस ढक्कन को गड्ढे के ऊपर रखते ही गड्ढा एक तरफ से टूट गया और वह ढक्कन उस गड्ढे के अंदर ही गिर गया |
उसके बाद छगन ने बहुत दिन तक प्रयास किया बहुत बार सरपंच साहब से ,सचिव से और वार्ड पन्च से मिला लेकिन ढक्कन उस गड्ढे से बाहर नहीं निकला|
3 महीने तक भी कुछ काम नहीं होने से, छगन अपनी फरियाद लेकर पंचायत समिति पंहुचा, वहां के बड़े बाबू ने  ₹9000 की एक रसीद  और  छोटे बाबू ने पूरी बनी टंकी की एक तश्वीर दिखाई और बोला ये देखो टंकी तो बन गयी | तश्वीर में छगन का घर साफ़  रहा  था और टंकी भी पूरी बनी हुई थी |  उसके बाद वह पंचायत समिति के सभी  अफसरों  से मिला और बोला टंकी अभी भी नहीं बनी  है चाहो तो जाकर देख ले | लेकिन तश्वीर को कोई कैसे झुटला सकता है | सुबह से शाम हो गयी और उसकी बात मानने को कोई तैयार नहीं था | 
छगन इस सरकारी तंत्र से तो हार मान गया, पर टंकी तो उसको बनानी थी |  घर जाकर 2 घंटे में 2X2 का एक नया गड्डा  बना लिया और गॉव से कुछ जवान लड़को को बुला कर उसी  ढक्क्न को नए गड्डे पर रखवा लिया | 
दोस्तो आजादी के 70 साल बाद , आज भी बहुत सारी टंकियां भी सिर्फ कागजों में बनती है , ऐसे ही बहुत से छगन परेशान होते है| चंद लोगो की इस तरह की बेईमानी से मेहनतकस सरकारी कर्मचारी भी बदनाम होते  है
Read More
-*-*-*-

Dream to Fly

The phone rang while I was about to do the web check in to fly from Muscat to Kochi. 'Sir, this is a call from customer services, Airlines.'
I was little worried hearing that call was from Airlines. The lady continued her talk. 'Sir, we can upgrade you to the Business class for very little amount.' 
I had already received a email regarding the upgradation and declined the offer. The offer price was 50%  of my economy class.' 
'Sir, I am also from your place in Kerala, why don't you spent some extra money?' I got little annoyed but hid the feeling and replied to her. 
'Look sister, it is not that I can't afford that extra amount but a simple policy that we should not waste the money which may be very essential minimum survival amount for an average person.' 
There was a sound of laughte at the other side. She said. 'Sir, you are trying to avoid me with some story.' 
I said. 'No, if you have patience to listen to me I will tell a story. You may judge me after hearing the story.'
I was 8 years old and lived in a village ancestor house which had no electricity during time.
 We had to walk many Kilometres bare foot. In those days seldom we took the private bus to school which was just 10paise at that time.
Our village had a railway gate and that had helped us to get a free drop in some vehicles to the school. 
One of my relative who served in British Indian army. He asked me once. 'What do you want to become when you grew up?' 
I had no second thought and replied. 
'I want sit in a revolving chair and work under the fan.' You may wonder 'Is it s dream?'.
Yes, it was a dream that time. Years passed, I had finished my 10th grade in Kerala and moved to Bangalore along with my father. 
The difficulties was part of the education period.  Dad got me a carpenter made Drawing board and T-Square.
I got my first job in BPL group and later joined TVS group. My career took a major turn with the CAD/CAE training I received from there. 
Years passed and I landed up in the Oil rich Gulf and grew financially. I did not only stop just growing in my career but also continued my passion of writing stories.
I crossed the hurdles with mere hardwork and my dedication. 
I pursued my dream and tried my hands at many things and achieved few things in my life.
I do not wish to forget my hard day's.
I made a full stop to the talk and asked her. 'Are you still with me dear?' 
She replied. 'Yes sir, we are hounored to fly you in our flight.'. I relpied, 'Thank you very much.' 
She said, 'We are upgrading you free , from now onwards you are our special guest.'
I replied. 'Thank you.'

By Rajan V Kokkuri
Instagram id: rajan_vkokkuri
Author 3 Published books by name
I Remain Forever Yours
My Precious Dreams
Mere Anmol Sapne
Read More
-*-*-*-

सुख या दुख

दो बेटों की अम्मा सुखी थी या दुखी, उसको खुद भी समझ नहीं आ रहा था I बड़ा बेटा  सुरेश जो अपने घर बिजवासन हरियाणा से बहुत दूर हैदराबाद में जाकर अपना बिजनेस जमाया था I साल में एक बार ही  घर आ रहा था उसके बच्चे बड़े तो हो रहे थे लेकिन इस दादी को कभी दुलार का मौका भी नहीं मिला था I
छोटा बेटा रमेश जो कि घर से सिर्फ 50 किलोमीटर दूर एक कंपनी में मैनेजर थाI
 एक बेटा लाखों मैं अपने बिजनेस में कमा रहा था तो दूसरा बेटा अच्छी तनख्वाह पा रहा था I
मां इस बात से खुश थी एक बेटा तो पास ही रहता है लेकिन तभी उस बेटे का भी प्रमोशन के साथ तबादला हो गया, उसके तबादले की खबर सबको थी लेकिन उसने अपनी मां को नहीं बताया I 
सोचा घर जाकर पहले कुछ समझा लूंगा फिर खुद ही बताऊंगा I
 लेकिन समझाने को भी तो कुछ नहीं था वह कुछ भी कहे पर वह दूर तो जा रहा था और अपनी मां को कैसे झुठला सकता था I 
छुट्टी लेकर वह पहुंच गया अपनी मां के पास और मां को बोला- मां तू मेरे साथ चल I 
मां बोली- तू 50 किलोमीटर तो दूर रहता है हर हफ्ते घर आ जाता है मैं तेरे साथ चल कर क्या करूंगी I
लेकिन फिर रमेश बोला - नहीं मां, तू चल मेरे साथ I
मां बोली- बेटा, क्या हो गया तुझे , क्यों बहकी बहकी बात कर रहा हैI
 इतनी सी दूर के लिए क्यों मैं अपना घर छोड़ दूं I मुझे अपने इस घर से बहुत प्यार है, इसमें मेरे दो बेटों ने जन्म लिया है उनकी किलकारियां अभी भी इस घर में  सुनाई देती है, मैं  इस घर को को छोड़ नहीं सकती हूं I
यह सब बात सुनकर रमेश की आंखों से अश्रु धारा बहने लगी और मां को बोला,  मां मेरा तबादला चित्तौड़गढ़ राजस्थान में हो गया है I
मां - अब तो कितने दिन में आएगा I
रमेश - 500 किलोमीटर है , लेकिन 15 20 दिन में एक बार तो आ ही जाऊंगा I
इतने में सुरेश का फोन आ गया और बोला, मां मैं बस स्टैंड पर आ गया हूं I रमेश को लेने भेज दो
मेरे तबादले का दुख कुछ देर के लिए टल गया और मैं भैया को लेने चला गया  I
Read More
-*-*-*-

बत्तीस दिन के बाद जीवन फिर मुस्काया

21अक्तूबर 2020 की शाम से ही बुखार और खांसी थी। इसलिए 22अक्तूबर को ऑफिस नहीं गया। बेटी अर्चना ने मुझे कोरोना का टेस्ट कराने की सलाह दी। मैंने यह कह कर टाल दिया कि सामान्य मौसमीय बदलाव के कारण ऐसा हो रहा है। किन्तु उसने पूना से ही घर टेस्ट  कराने के लिए  लैब  बुक करा दिया। अगले दिन टेस्ट कोरोना  पॉजिटिव  आ गया। चिन्ता अपने साथ साथ परिवारजनों की भी हुई। डॉक्टर ने सत्रह दिन का होम आइसोलेशन लिख दिया और हम अपने बेडरूम में कैद हो गए। यह एक बड़ी त्रासदी होती है जब आपको अपनो से अलग कर दिया जाय। मित्र डॉक्टर आर. के. जैन को फोन किया तो उन्होंने पूरी सांत्वना दी। बिल्कुल नहीं घबराने की सलाह दी। एक पल्स – ऑक्सीमीटर और थर्मामीटर खरीदने का विशेष आग्रह किया जिससे बुखार और शरीर में ऑक्सीजन लेवल नापा जा सके। इसके साथ घर के सभी सदस्यों का भी टेस्ट कराने का सुझाव दिया। दो दिन बाद टेस्ट कराए सभी के टेस्ट पॉजिटिव आए बेटे को छोड़कर। सभी आइसोलेट हो गए। कौन खाना बनाए ,कौन और घर का काम करे? बड़ा संकट आ गया।उधर  दिन में तीन बार 650 एमजी की पैरासीटामोल खाने के बाद भी  बुखार उतरने का नाम नहीं ले रहा था। ईश्वर की कृपा से ऑक्सीजन लेवल ठीक रहा।  इस कारण अपने जन्मदिन पर मिली बधाईयों का उत्तर भी न दे सका।  पत्नी, जो अभी तक ठीक थी, उस  पर  कोविड़ ने कहर  ढाणा शुरू कर दिया। उन्हें बुखार के साथ साथ खांसी और जोड़ों में दर्द शुरू हो गया। 3 नवम्बर को उनका ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल 88% हो गया। जबर्दस्त घबराहट हो गई। तुरंत 102 पर एम्बुलेंस कॉल की गई। उसे आने में एक घंटा लगा। वाइफ को तुरंत बेटे के साथ  सेंट्रल हॉस्पिटल भेजा। मेरे लिए यह बहुत भावुक पल था कि मैं इस समय पत्नी के साथ नहीं जा पा रहा था। मेरी नातिन ने मेरी आंखों के पहचान लिए और कहने लगी नाना जी आप नानी को लेकर परेशान हो न ? फिर मुझे सांत्वना दी नानी ठीक होकर आ जायेगी। चिन्ता न करो। मैं शायद दूसरों के सामने खुद को कमजोर नहीं दिखाना चाहता था। मेरी आंखें बेडरूम की खिड़की से एंबुलेन्स निकलने तक वाइफ को देखती रही। मैं उस समय कितना अवश और विवश था,बता नहीं सकता। जीवन में पहली बार ऐसा हो रहा था कि सुख-दुख में मेरे साथ कंधे से कंधे मिलाकर खड़ी रहने वाली पत्नी  को इस समय जब मेरी सबसे अधिक जरूरत थी, मैं साथ नहीं था। रेलवे हॉस्पिटल में भर्ती के दो दिन बाद 5 नवम्बर को उन्हें आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया। सात नवम्बर को मेरा होम आइसोलेशन समाप्त हो गया। उसी  रात आईसीयू में कई कोविड  रोगियों के स्वर्ग सिधारे तो वह बुरी तरह से घबरा गई। हम लोग अस्पताल से 30किमी दूर थे और बेटे भी कोराना पॉजिटिव हो गया। अस्पताल में जा नहीं सकते। पत्नी बार बार कह रही थी कि मुझे बहुत घबराहट हो रही है, यहां से ले जाओ। छोटी बेटी रजनी ने फिर मोर्चा संभाला। वो रात के बारह बजे गुडग़ांव से आईसीयू के सामने आई और फोन पर कहा "' मां,घबराओ नहीं , मैं यहीं बाहर बैठी हूं। तब जाकर उसे शांति मिली। लगभग एक  सप्ताह के कोविड के उपचार के बाद आईसीयू  में रहने से स्थिति  सुधर गई और उन्हें वापस कोरोना आइसोलेशन वार्ड में भेज दिया। हम और पुत्र दोनों ठीक हो गए थे। रोज डाक्टर से हाल लेने रेलवे अस्पताल जाते रहे और ईश्वर से उसके  ठीक होने की प्रार्थना करते रहे। भाई और बहन , बेटियां और समधी और समधन के अतिरिक्त सहयोगी और मित्र शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए दुआ करते रहें। मित्र अनूप श्रीवास्तव तो रोज सुबह फोन कर हाल चाल लेते और सांत्वना देते रहे। मेरे डीएमआरसी के पूर्व सहयोगी आ. नीरा खुंटिया, श्वेता वर्मा,संतोष भारती, निखिल आनंद गिरि, अस्मिका सिन्हा,kashiram तथा मित्र डॉ पुष्पा  जोशी, भारत भूषण शर्मा ,सुभाष चंदर, स्नेहलता पाठक,अरुण अर्णव खरे, राजशेखर चौबे, डॉ. रमा द्विवेदी,डॉ आभा सिंह, सुधा मिश्रा, कीर्ति काले,प्रमिला पाण्डेय, राजेश सिंह,डॉ सविता   सौरभ ,आलोक चतुर्वेदी , ओम प्रकाश शुक्ल, डा. पवन विजय, सुरेशपाल वर्मा जसाला, श्री एस के बंसल, एम के बंसल, वसुधा कनुप्रिया ,विजय प्रशांत सहित अनेक मित्र निरंतर फोन पर ढांढस बढ़ाते रहे। आखिर सभी की प्रार्थना को ईश्वर ने सुन लिया और पत्नी बत्तीस दिन के बाद कोरोनावायरस से जंग जीतकर 4 दिसंबर 2020 को हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होकर घर आ गई। अब स्वस्थ है किन्तु काफी कमजोर हो गई है। कोरोना के संक्रामक रोग होने के कारण उस  वार्ड में कोई निकट सम्बन्धी नहीं जा सकता था। यह एक तरह से स्वास्थ्य कारागार है जो स्वस्थ होने के लिए आवश्यक है। कई बार जब अस्पताल जाते तो PPE किट में बंद दिवंगत आत्माओं को देखकर मन घबरा जाता और अनेक आशंकाए मन को घेर लेती लेकिन हमारे सामने कोई  विकल्प तो था नहीं। पत्नी ने लौटकर कई घटनाएं बताई। सब ईश्वर का खेल है। कोविड रोगियों को बचाने में डाक्टर,नर्स,पैरामेडिकल स्टाफ,सफाई कर्मचारी अपनी जान की बाजी लगाए हुए हैं। मैं उन सभी का रेलवे अस्पताल कर्मचारियों और डॉक्टर्स का धन्यवाद करता हूं जिन्होंने मेरी पत्नी का उचित उपचार कर नया जीवन दिया। जीवन के ये बत्तीस दिन मेरे लिए अविस्मरणीय बन गए हैं। अपने सभी सगे संबंधियों और मित्रों का आभार व्यक्त करना चाहता हूं जिन्होंने इस संकटकाल में मेरा हौसला बढ़ाया और कभी कमजोर नहीं होने दिया। अंत में मैं उस जीवनदाता ईश्वर का धन्यवाद व्यक्त करना चाहता हूं जिसने पत्नी को एक और जीवन दिया। मैं ईश्वर से विश्व के  सभी कोरोनाग्रस्त रोगियों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना भी करता हूं। 

एक सलाह : कृपया कोविड भी लक्षण दिखे तो टेस्ट जरूर कराएं और सरकारी आदेशों का पालन करें । यह हमारे अपने और स्वजनों के हित में है।
Read More
-*-*-*-

MY SECOND MISTAKE

It was in the year 2000 when I was working in NTPC Dadri that I decided to construct my own house in Ghaziabad. I searched for a good location for my house where connectivity, education and medical facilities with good transportation were available. I built and completed my house in 2001 but since I was living in NTPC Township, I decided to let the house on rent. I informed several agencies about my wish to rent the house. 
One day a senior person, about 60 years of age, came to me and told me that he wanted to rent the house. He told me about his service background and family conditions. One of his friends was my colleague.  Considering his age and family problems, I accepted his request.  This was my second mistake. Without properly verifying him and his intentions, I gave him the keys to my place. I signed an agreement of tenancy with him.
For the first two years or so he was regular with the rent payments but during the third year he started to delay. Though my suspicions were aroused, I continued to let him rent the place. But in fourth year he became arrogant .He did not pay the rent on time and continued to delay.
With the help of my friends I tried to convince him but he was rigid. He would not pay the rent nor would he vacate the house.  I also tried to take help from my colleague who was his friend. But he also refused to help. Then I tried to get his relatives to help me but they all denied help. I requested DM SP and local police. I could not get help from anywhere.
They told me that they had no right to force him to vacate the house. They could only try to convince him. They asked him to vacate at the earliest and the tenant agreed to vacate within 15 days.
I became relaxed and waited for him to vacate the house. But after one week I was surprised to see the court notice he had send. In the notice he charged me along with 4 policemen for his harassment. I contacted a lawyer to help me with the case.
 I filed a reply to the notice in a Civil Court. The case dragged on for two years without any real progress. I was getting dates after dates.  Three years had passed and the judgement came in favour of the tenant.  I had no option but to file an eviction suit in upper Civil Court. I asked the sitting judge to guide me. Being an NTPC employee he told me to hire a senior lawyer.  Without wasting any time I met with a lawyer, but he was costly. I had no other option. I could not let a stranger wrongfully snatch away my hard earned house only due to a court case. So I decided to hire that lawyer and he started gathering information for my case. 
This lawyer worked hard for me. He filed an eviction suit in the upper Civil Court. After a few days my tenant started depositing the balance rent amount of two and half years in the court. I felt a ray of hope. I would succeed. Later I came to know that my first lawyer had conspired with my tenant to cheat me.  At the end of third year, my tenant was on back foot and it seemed that I could win the case. I continued to pray god 
Ultimately in the fourth year before the final hearing, he became agreeable to a compromise. He was ready to pay the pending rent and electricity bills. After one month he called me at my home and gave me the keys to my house. I prayed to God a lot thanking him for ending my struggle of four years. 
Proper Enquiry of records is must for a tenant.
Read More
-*-*-*-

Dark Practices: Still Exist

Nature attracts everyone & so do me and I want to get wet again and again by nature's love. I always love & wait for the rainy season to come throughout year...
One rainy day, while enjoying the rain, I was standing in the balcony with a cup of tea in my hand & suddenly my eyes stopped at the vegetable shop of the society just opposite to my landlord’s house. I saw society cleaner cleaning and collecting the society garbage in his cart, but my eyes got stuck in the cart, where his 5yrs old son was sitting aside, he was properly dressed and waiting for his father in the cart, and in the same frame I saw  a young professional father carrying his little girl, they stopped at the society’s gate waiting for her school bus. That scene made me realized father love is eternal, no matter what your profession is, rich or poor you are, that fatherly love is same everywhere. I got so mesmerized by that view that I didn’t even realize when my tea mug stood empty & I was just standing, thinking, joining dots of my own thoughts.
Few hours later, I saw Rajkumari didi(my maid), entered my room and said, Sorry didi, I got late due to rain.
Me: No worry, Didi. I understand your issue, its rainy season. You can come any time
Rajkumari: Thank you didi, you are very supportive.
Time flies, in my new job and new city
One morning, I was as usual getting ready for my college, suddenly Didi came in my room, from her gestures I assume than she was not  feeling well.
Me: Didi, all well ?
Didi: I am fine and I have to be fine or else how will I be able to work?
Me: No Didi, it’s not like that, your body is also made of flesh & bones. You don’t need to come to my home for work when you are sick, and  I will never deduct single penny from your salary.
Didi: You think so, but everybody does not think so.
And as soon as she said so, Didi started crying heavily. I tried to console her, but she kept crying, then I gave her a glass of water and said, “drink water and tell me what happened”.
Didi: Rajkumari Didi got emotional and said, working in the house of the people is my helplessness and my source of income too, but at the end I am also human and woman too. God have created all human beings. 
Me: Yes didi, I understand you & life struggles of a woman.
Didi: Like every woman, I too face a mensuration cycle every month and its natural for every woman.
You know before coming to your home, I do the cleaning job of aunty’s place(landowner). Today is the second day of my mensuration cycle and for this reason and I am not  feeling well. Though I am not well still I attended my daily work schedule. As, I was  doing my cleaning job, I have a sudden stomach ache. Could not go to the washroom which mainly used by the cleaning staff, So, without  thinking much I used the owner’s washroom, once I open the gate of the washroom, mistress  screamed with a loud voice “ How dare you use to our washroom, that too in your mensuration period” 
Me: Why? She screamed on you?
Didi: I belong from the slum areas, that is the reason.
Me: Didi, but you clean their house and wash their cooking utensils too. How can people be so inhuman. 
Me: Didi, I am sorry I was not aware of such “washroom discrimination rituals”, you are always welcome to use my washroom in any moments of time, and you don’t have to come when in your first two days of your mensuration periods.
Didi: Thank you, you think like that, but people do not have the same thoughts. A house like a splendid palace, branded cars in front of the house, people are highly educated but thoughts did not change, still holding the discrimination thoughts.
Me: Do not worry Didi, all will be fine. I am getting late for college. Please take care.
Few hours later, I reached college, sitting on my work station I was thinking about the episode, which was share by Rajkumari Didi..
Every day I read about discrimination in the name of caste and racial discrimination, but never thought never thought about washroom discrimination that exist in our society. 
This episode might sound common, but I can’t accept these practices around me & living with these suffocates me. At the end some things can’t be changed completely the way you want. You can’t change world, can’t change society, can’t change people, the only thing you can change is YOU, by accepting every situation & people as they are. My thoughts are still scattered like stars, can’t make constellations out of these.
Read More
-*-*-*-

The Beauty of Failure

My Journey of an ordinary girl to become an Author: Failure is the assets of life. 

Failures and success are two interconnected phenomena that characterize human life. I (Sukanya Roy) am successful failure, I failed in every venture of my life and that helps me to learn more and explore my life in a meaning way.  I still remember my childhood instance, when I was in 8th std and secured low scores in computer subject, I was bit scared to show my marks to  maa, but her reaction regarding my marks was little different , she neither scold or make negative remarks on my  computer marks,  in fact she hold my hands and   told  “next time prepared well and try to learn the concept more and If you try and failed again, we will celebrate because  your learning helps you in future not your scores”   That small instance change my perspective towards failure till today  when I failed, I don’t take the pain rather  I enjoy the failed moments which provides a  rich  experience and that experience  helps me to gain more knowledge and knowledge make you  better person.
Today I want to share the failure framework which I learned from my life experience.
Read More
-*-*-*-

सपने

आज घर की रसोई मे पकवानों की भीनी भीनी महक आ रही थी ! दरअसल आज मेरा' नीट ' का परीक्षा परिणाम आना था और मम्मी मेरी सफलता के प्रति पूर्णतया आश्वस्त थी ! इसलिए पड़ोसियो को पार्टी देने की पूरी तैयारी थी !
मग़र मेरे दिल मे उथल पुथल मची हुई थी !

तभी घर की डोरबेल कोयल सी चहकी !
" अन्नू ..देखो तो जरा.. दरवाजे पर कौन है "? मम्मी ने रसोई से आवाज लगाई !
मैने दोड़कर दरवाजा खोला तो पापा खड़े थे ! उनके हाथ मे मेरा रिजल्ट कार्ड था !
रिजल्ट कार्ड देखकर मेरा दिल धड़कने लगा !
लो तुम्हारी लाडली अबकी बार भी 10 मार्क्स से रह गई ! पापा ने घर मे घुसते हुए मम्मी को ताना मारते हुए कहा !

हाय ! इस लड़की ने तो हमारी ईज्जत धूल मे मिला दी ! पड़ोसियों  के आगे अब कौनसा मुँह लेकर निकलेंगे !
दो वर्ष मे  पाँच लाख रूपये इसकी कोंचिंग पर खर्च कर दिए मग़र नतिजा वही ढाक के तीने पात ! सारे दिन इसको डांस से फूर्सत मिले तब ना ! मम्मी ने अपने सारे सपनों के बोझ की गठड़ी मेरे सिर पर लाद दी थी !

मै कहना चाहती थी ,मम्मी मुझे डाक्टरी नही ,नृत्य पंसद है ! मैने राज्य स्तर पर नृत्य मे प्रथम स्थान प्राप्त किया है !अपने सपने मेरे ऊपर मत थोपो ! मुझे मेरे सपने पुरे करने दो!

मग़र हाय रे संस्कार !तुम्हारे  जबान पर लगाए हुए तालों के कारण मेरे शब्द कण्ठ मे ही फड़फड़ा कर दम तोड़ चूके थे !
Read More
-*-*-*-

Embrace Failure

It was a rainy evening and I was enjoying a cup of coffee with hot samosas. A soothing Rabindra sangeet truly made my evening. I truly believe in celebrating myself.
While I was enjoying my coffee, suddenly the bell rang. After switching off the music, I moved towards the door.
“Who’s there?”
A male voice: “Open Sukanya, Dharmik here.”
Me: “Ohh great! What a pleasant surprise! No prior notice and you visit my place, suddenly.”
Dharmik: “Yeah, to give a surprise.”
Me: “Great! Let’s enjoy coffee and samosas.”
On hearing the evening snacks menu, Dharmik was super excited and started doing his favourite salsa steps. As he was engaged with his salsa, I went to the kitchen to fry more samosas and to make another cup of coffee.
Samosas were served with green chutney to Dharmik.
I served the hot samosas in his favourite plate; he grabbed them and took a bite with green chutney without wasting a second. His indulging expression can't be expressed in words. From here, our never-ending food chat started.
We knew each other but he never visited me without prior notice. This was making me puzzled and to get the answer, I finally asked, “Is everything okay with you?”
Dharmik: “Yeah, but today I feel low.”
Me: “(My eyes popped out) seriously Dharmik, I never saw you in a low mood!”
Dharmik: “Yeah, I am also human, I have emotions too”
Me: “Why? What Happened? Please, open your heart.”
Before starting the conversation, we picked samosas to start the discussion with some hot relishes.
Dharmik: “Sometimes I wonder, what is the purpose of life? I have a wonderful career graph, worked with all big brands and now, I joined the topmost educational institute ‘Global Educational Institute/GEI’ institute to explore the academic world, learn lots of frameworks. I am, now, aware of what I will do after this.”
Me: “Dharmik, no worry. Everyone has their own successful graph, in terms of professional and personal life. But one thing you know Dharmik! I have gone through a successful failure, in every aspect of my life, either professional or personal.”
I added more details to elicit the discussion,
“In my entire family generation, I was the only girl whose marriage sustained for only three months. My marriage was not fruitful. But after this incident, I realized the importance of me and my existence. Marriage is not the only relation. Other than human relations, I have a relation with Mother Nature and animals too.
Similarly, my professional life is not too great. In my school days, I was an average student, so not attained great scores or neither my surname includes the name of Ambani and Birla. So, I had to continue my studies at an average college. Though my course structure didn’t meet with the great education system, I learned the most important skills i.e Basic human skills (where I learned to give respect and learned a positive attitude towards life).
The second incident took place when I was preparing for government jobs. That too was a big failure for me as I attempted many exams but, fortunately, or unfortunately, didn’t get selected in any of the govt jobs, even in the Railway peon entrance exam. But today, I understood, God has some bigger plans for me. If I was selected in any govt jobs my life would be stagnant. There would be no scope to learn or explore new things from my environment. Additionally, I would not be able to understand the ground reality and problems of my small area. In those periods, I was in Jhunjhunu, where I learned the basic aptitude skills, which further helped me to open a small coaching institute, especially for women. These provided a good platform, where women can get a safe and peaceful environment to study. Vedanta coaching institute: A platform guide & mentor for Commerce/Business students. Apart from running my own institute, I also taught students of Business.
Administration at the prestigious Goenka Degree College.”
Took a deep breath and added,“Again something happened. ‘Vedanta’ failed as a startup. The competition was tough. There were several other coaching institutions in the locality, all catering to the same market. What was really my competitive advantage and how would I market that?
Failure of my startup and introspection into the cause of failure, made me realize that I did not have enough knowledge in marketing strategy and promotion skills where I can deliver my service to the target segment. In my desperation to find the answers, I joined the Global Institute of Management, Udaipur as a Research Associate to delve deeper into the Marketing Area and found out the unique ways to solve the marketing problems. GIM, Udaipur was a whole new world, where I have developed an aptitude for problem-solving through research and analysis. I worked on data construction using both primary and secondary data. Meanwhile, the theoretical and empirical challenges, I faced while working, gave me an opportunity to learn new concepts and research methodologies. In the process of working on various research papers, I underwent an extensive reading of marketing journals like ‘Journal of Marketing’, ‘Journal of Consumer Research’, ‘Journal of consumer psychology’, ‘Journal of Marketing research’, for gaining
knowledge in statistical software such as SPSS, MEXL, and R and working on marketing databases such as Sales data. Here, I fixed my mind to go for higher studies and enroll in the doctoral program from any IIMs/IITs.
Preparing for doctoral programs was a new journey for me…To enroll in any full-time Ph.D. program; I had to polish my marketing concepts. So, I landed in the class of MBA and learn more about the research tools… Though it was not the end, I have to give the GRE exam and in addition, I must gather a Letter of recommendation from professors. Till today, I don’t find any correlation GRE with doctoral programs. In my entire doctoral entrance journey, I published a paper, attended conferences, reviewed papers in some good journals and also cleared my GRE exam. Though I did not get enrolled in any Ph.D. programs, in the name of Ph.D., I learned many things.”
Dharmik (Surprised): “OMG!!!”
Me: “(replied with the smile) you know Dharmik I am blessed … My almighty brought me on the right track for my life... I got to know the most relevant answers to life in the entire admission journey for my doctoral programs; the existence of my life is to serve good works for nature. I started a dog shelter; though I would not earn good money or I will lead a fanciful life neither people will know me regarding my research work. But I am contented with my work. When I see the wagging tails of my dogs, it gives me an inner satisfaction.”
Me: “So, I embraced my failure …My failure has given me a U-turn in my life. I’m cherishing every moment of life by keeping the good works ahead. If something good happens, it’s good. If it gets failed, keep working hard. It will never fade and will definitely shine at some specific time.”
Dharmik: “True… from today onwards, I’ll embrace and celebrate every failure.”
Me: “Listen Dharmik, it is dinner time, please join for dinner.”
Dharmik: “Cool, but please prepare simple food i.e dal and rice.”
I went to the kitchen and started preparing Dharmik’s favourite dish Dal and rice, and suddenly my phone rang, it was ‘Sanya’…
Me: “Hey Sanya, How are you and where are you?”
Sanya: “On my way to Mohali, feeling hungry”
Me: “Great, Dharmik is here in my room and would you like to join us for dinner.”
Sanya: “Sounds cool.”
While disconnecting the call, I moved to Dharmik and said, “Sanya is on her way to Mohali and will join us soon for dinner.”
Suddenly the doorbell rang... Sanya was there…
Wow, it was a beautiful evening with three of us. Though we had simple food “rice and dal”, we celebrated the togetherness.
I am blessed to have such wonderful friends in my life.
Sanya and Dharmik. Love you!
Read More
-*-*-*-